Wednesday, May 22

 कंकरखेड़ा क्षेत्र में 11 अवैध कॉलोनियां जमींदोज

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 10 जनवरी (प्र)। मेरठ विकास प्राधिकरण (मेडा) की टीम ने गत दिवस थाना कंकरखेड़ा क्षेत्र में 11 अवैध कॉलोनियों को जमींदोज कर दिया। टीम के पास सिफारिशों के लिए भी लगातार फोन घनघनाए। इनमें कई कॉलोनियां ऐसी रहीं, जिन्हें दो साल पहले ध्वस्त किया गया था। मंगलवार को फिर से इन पर बुलडोजर चला।

मेडा के प्रभारी अधिकारी प्रवर्तन अर्पित यादव ने बताया कि नंगलाताशी में सीताराम कॉलोनी के बराबर सरधना रोड पर मौ. अब्दुल रहमान द्वारा 20 हजार वर्ग मीटर में सड़क निर्माण कर अवैध प्लाटिंग की जा रही थी, जिसे ध्वस्त कर दिया गया। अशोक मारवाड़ी व करमेंद्र चौधरी द्वारा किंग्स पार्क सरधना रोड बिना ले आउट स्वीकृत कराए दो हजार वर्ग मीटर में, नीरज चौधरी व ब्रजभूषण गुप्ता द्वारा ग्राम जेवरी खिर्वा रोड पाल प्रॉपर्टी के सामने छह हजार वर्ग गज में, जयकार व अमरदीप द्वारा मेन खिर्वा रोड पर चौधरी हंसा सिंह स्मारक के पास दो हजार वर्ग गज में सड़क, बिजली के खंभे, प्लॉटों के नींव तथा साइट ऑफिस को ध्वस्त कर दिया गया नसीरूद्दीन, अखिलेश गोयल व सचिन द्वारा आशाराम बापू आश्रम के पीछे 20 बीघा भूमि पर सड़क निर्माण किया गया, जिस पर 22 नवंबर 2018 को ध्वस्तीकरण के आदेश पारित किए गए। 14 सितंबर 2020 को ध्वस्तीकरण भी किया गया। अब पुनः निर्माण पर फिर से ध्वस्तीकरण किया गया।ऐसे ही तरशपाल सिंह द्वारा मेन खिव रोड पर 1800 वर्ग गज भूमि पर, आशीष गुप्ता द्वारा आठ हजार वर्ग गज भूमि पर आशीष वर्मा व अमित पाल द्वारा 6000 वर्ग गज भूमि पर आशीष गुप्ता व ब्रजमोहन गुप्ता द्वारा जगन्नाथपुरम कॉलोनी के सामने दो हजार वर्ग गज भूमि पर राजेश सोम द्वारा ग्राम जेवरी सरधना रोड पर 7000 वर्ग मीटर भूमि में विकसित की जा रही अवैध कॉलोनियों को जमींदोज कर दिया गया। आदेश शर्मा, सुरेश कुमार वैद्य व दीपक मलिक द्वारा जीत कॉम्पलेक्स खिव रोड 20 वर्ग मीटर में बिना मानचित्र स्वीकृत कराए आरसीसी कॉलम लगाकर किए जा रहे निर्माण को सील कर दिया।

छतरी पीर और घंटाघर पर छह दुकानें ध्वस्त होंगी
छतरी पीर से घंटाघर तक नाला और सड़क निर्माण में बाधा बन रहा नगर निगम की छह दुकानें ध्वस्त होंगी। जिलाधिकारी दीपक मीणा ने निगम के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि सड़क निर्माण का कार्य नहीं रुकना चाहिए। इसके बाद निगम ने दुकानें ध्वस्त करने की तैयारी शुरू कर दी है। इस बारे में दुकानदारों से वार्ता की गई है। दूसरी जगह दुकानों की व्यवस्था के प्रयास किए जा रहे हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply