Monday, April 15

लोक अदालतों में 748 वादों का निस्तारण किया गया

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 07 मार्च (प्र)। लघु आपराधिक वादों का निस्तारण किये जाने के लिए विशेष लोक अदालत का आयोजन | किया गया जिसमें 748 वादों का निस्तारण किया गया राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई | दिल्ली व उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, लखनऊ के निर्देशानुसार तथा जिला न्यायाधीश व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष रजत सिंह जैन के मार्गदर्शन में लघु | आपराधिक वादो का निस्तारण किये जाने के लिए विशेष लोक अदालत का आयोजन किया गया। | मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट आकांश मिश्रा द्वारा 59 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। विशेष मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अमन कुमार श्रीवास्तव द्वारा 19 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय संख्या-1 शैलेष पाण्डेय द्वारा 191 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, न्यायालय संख्या-3 पराग यादव द्वारा 10 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय संख्या- 4 अनुज कुमार ठाकुर द्वारा 13 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय संख्या-2 प्राची अग्रवाल द्वारा 31 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय संख्या 5 योगेश जैन द्वारा 10 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय संख्या 6 स्वाति सिंह द्वारा 33  आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय संख्या 7 श्रीमती दीपिका अत्री द्वारा 25 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। न्यायिक मजिस्ट्रेट, न्यायालय संख्या 1 एकागता सिहं द्वारा 205 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया। अपर सिविल जज (जूडि) न्यायालय संख्या 1 रजत शुक्ला द्वारा 2 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया सिविल जज (जूडि) सरधना आशिफ नवाज खान द्वारा 22 आपराधिक वादो का | निस्तारण आधार पर किया गया। अपर सिविल जज (जूडि) न्यायालय संख्या 7 कामक्षी सागर द्वारा 16 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट, न्यायालय संख्या 1 रजा हसनैन जैदी द्वारा 93 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय संख्या 2 दिनेश कुमार द्वारा 19 आपराधिक वादो का निस्तारण किया गया।

Share.

About Author

Leave A Reply