Sunday, April 14

एसडीएम के ड्राइवर की अवैध वसूली की ऑडियो वायरल

Pinterest LinkedIn Tumblr +

नजीबाबाद 26 दिसंबर। डंपर स्वामी और नजीबाबाद एसडीएम के ड्राइवर के बीच हुई बातचीत की ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। इसमें एसडीएम का ड्राइवर एक डंपर स्वामी से गाड़ी की एंट्री कराने की बात कर रहा है, इतना ही नहीं चालक ने एसडीएम तहसीलदार और अन्य अधिकारियों का नाम भी लिया है। सोशल मीडिया पर हुई ऑडियो वायरल के बाद अधिकारियों ने इस मामले में चुप्पी साध ली है। जहां एक और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भ्रष्टाचार को लेकर सख्त रवैया अपनाये हुए हैं, वहीं बिजनौर जिलाधिकारी अंकित अग्रवाल, और पुलिस अधीक्षक नीरज कुमार जादौन ने भी जिले की कमान पूरी ईमानदारी के साथ संभाली हुई है, दोनो ही अधिकारी भ्रष्टाचार के खिलाफ है, लेकिन निचले क्रम के कुछ भ्रष्ट अधिकारी और कर्मचारी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे है।

एक ऐसा ही मामला नजीबाबाद में सामने आया है, जहां नजीबाबाद एसडीएम का ड्राईवर राधेश्याम एक डंपर स्वामी से साढ़े नौ हजार रुपयों की प्रतिमाह एंट्री कराने की बात कर रहा है, जिसकी ऑडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है, ऑडियो में एक व्यक्ति एसडीएम के ड्राइवर राधेश्याम से कह रहा है कि वह तहसीलदार और पटवारी के भी पैसे दिलाएगा। जिस पर ड्राइवर जल्दी हीं पैसे देने की बात कर रहा है। इतना ही नहीं ड्राईवर आपत्तिजनक शब्दो का इस्तेमाल करके व अधिकारियों का डर दिखाकर खनन माफियाओं से अवैध वसूली करने की बात कर रहा है। उल्लेखनीय यह है कि एक वर्ष पूर्व भी गाड़ियों की एंट्री की अवैध वसूली के मामले में ड्राइवर राधेश्याम को हटा दिया गया था, लेकिन इसके बावजूद भी अपनी गलती से सबक ना लेकर ड्राइवर राधेश्याम स्थानीय अधिकारियों का डर दिखाकर अवैध वसूली करने में लगा हुआ है।

एसडीएम नजीबाबाद के ड्राइवर राधेश्याम की अभद्र भाषा एवं अवैध खनन, अवैध लकड़ी माफियाओं एवं अवैध मिट्टी खनन माफियाओ से अवैध एंट्री को लेकर भारतीय किसान यूनियन तोमर के जिला अध्यक्ष विपिन चौधरी एवं बरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष हेमेंद्र चौधरी भारतीय किसान यूनियन तोमर ने सुबह दस बजे भारतीय किसान यूनियन की टीम सहित नजीबाबाद एसडीएम संजय बंसल से मिलने का मन बना लिया है।

अवैध खनन को लेकर एसडीएम नजीबाबाद से भारतीय किसान यूनियन तोमर वातालाप करेगी। एसडीएम नजीबाबाद का ड्राइवर राधेश्याम कई वर्षों से नजीबाबाद में तैनात है, यहा उसने अपनी एक आलीशान कोठी भी बना ली है। अब सवाल उठता है कि एक प्राइवेट एसडीएम का ड्राइवर इतनी महंगी आलीशान कोठी आखिरकार कैसे बना सकता है। चार पहियों की कार से शहर में घूमता है, खनन वाहन, लड़की वाहन, मैली, गन्ना वाहन आदि से एसडीएम के नाम पर लाखों रूपयो की प्रतिमाह एंट्री वसूलता है। ऐसे में सवाल यह है कि क्या अधिकारी की सह पर ये सब काम चल रहा है। एडीएम वित्त राजस्व अरविंद कुमार ने बताया कि इस सबंध में जांच कराकर कार्यवाही की जाएगी।

Share.

About Author

Leave A Reply