Monday, July 22

सीएम योगी ने महिला थानों की जिम्मेदारियों में किया बदलाव, कहा-गड़बड़ी की तो पद भी जाएगा, सेवा भी होगी समाप्त

Pinterest LinkedIn Tumblr +

लखनऊ 26 सितंबर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक बड़ा फैसला किया है। फैसले के तहत अब हर जिले में महिला थाने के साथ एक अन्य थाने में महिला प्रभारी भी होगी। आगामी शारदीय नवरात्र से मिशन शक्ति का अगला चरण भी शुरू होने वाला है। सड़कों पर घूमने वाले मनचलों और बेटियों के साथ छेड़छाड़ करने वाले आरोपियों के खिलाफ भी सख्ती का आदेश दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक, सीएम योगी आदित्यनाथ ने आगामी त्योहारों को लेकर प्रदेश के सभी अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीधा संवाद किया। इस दौरान सीएम ने कहा कि हर थाना, सर्किल, रेंज और जोन अब निगरानी में है। यदि कहीं भी कोई गड़बड़ी पाई गई तो सीधे सेवा समाप्त होगी।

इस मौके पर सीएम ने कहा कि शारदीय नवरात्र से मिशन शक्ति का अलग चरण शुरू हो रहा है। इसके तहत शक्ति दीदी के साथ गांव-गांव में महिलाएं सशक्त होंगी। इस दौरान सीएम योगी ने निर्देश दिए हैं कि 14 अक्टूबर तक गौतमबुद्ध नगर समेत 17 नगर निगमों में सेफ सिटी की कार्रवाई की जाए। सीएम ने सभी थानेदारों से कहा कि महिला बीट सिपाहियों और ग्राम चौकीदारों के साथ हर सप्ताह समवाद करें।

समीक्षा बैठक में सीएम ने सभी जिलों के पुलिस कप्तानों और कमिश्नरों को निर्देश दिए हैं कि दागी छवि वालों को गलती से भी थाना या सर्किल का प्रभार न मिले। इस मौके पर सीएम ने थानेदारों को स्पष्ट संदेश दिया है कि माफिया कोई भी हो, उस पर कठोर से कठोर कार्रवाई होनी चाहिए। लोगों में सुरक्षा की भावना जगाने के लिए पुलिस पेट्रोलिंग बढ़ाई जाए।

सीएम ने बैठक में कहा कि प्रदेश में आने वाले निवेशकों और पर्यटकों की सुरक्षा-सुविधा का पूरी तरह से ध्यान रखा जाए। सीएम ने शहरों और गांवों में बढ़ती स्टंटबाजी की घटनाओं का भी संज्ञान लिया। इसके बाद उन्होंने कहा कि शोहदों पर सख्त कार्रवाई करें। गाड़ियों पर जातिसूचक चिह्न बना कर चलना वालों पर भी एक्शन लिया जाए।

बताया गया है कि ग्रेटर नोएडा में मोटो जीपी और यूपी इंटरनेशनल ट्रेड शो के सफल आयोजन के लिए मुख्यमंत्री ने की गौतमबुद्धनगर कमिश्नरेट की सराहना। साथ ही उन्होंने कहा कि प्रदेश के बाकी जिलों को भी इन आयोजनों से प्रेरणा लेनी चाहिए।

प्रमुख सचिव गृह संजय प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री ने गृह विभाग के अधिकारियों के साथ विस्तृत समीक्षा बैठक की है। धानाध्यक्ष से लेकर एडीजी और डीजी स्तर तक के करीब 2700 अधिकारी बैठक में मौजूद थे।

Share.

About Author

Leave A Reply