Sunday, July 21

17 दिन तक अस्पताल के फ्रीजर में पड़ी रही डेड बॉडी, डिप्टी सीएम ने दिए जांच के आदेश

Pinterest LinkedIn Tumblr +

लखनऊ, 13 अक्टूबर। ग्रेटर नोएडा स्थित गवर्नमेंट इन्स्टीटयूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (जिम्स) में 17 दिन तक शव फीजर में रखकर भूलने के मामले को उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। निदेशक से स्पष्टीकारण तलब करने के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव को निर्देश भी दिए हैं।
बताया जाता है कि जिम्स के कर्मचारियों ने लापरवाही बरती और फीजर में शव रखकर भूल गए। शव 17 दिन तक फ्रीजर में पड़ा रहा। मामले की जानकारी मिलने पर उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने विभाग के प्रमुख सचिव को निर्देश दिया कि मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने पूरे मामले में निदेशक से स्पष्टीकरण लेने का भी निर्देश दिया है।

सेक्टर ईटा 1 में रहने वाले सोहन पाल (70) की ब्रेन हैमरेज से मौत के बाद 17 दिन तक शव अस्पताल के शव गृह में फ्रीजर में रखा था। परिवार के सदस्यों को मौत की सूचना न होने की वजह से शव नोएडा पीएम हाउस में नहीं ले जाया गया। एटा के रहने वाले तमन ने बताया कि वह 13 साल से सोहनपाल के साथ रह रहे थे। 22 अगस्त को उनकी तबीयत खराब होने पर GIMS अस्पताल में भर्ती कराया था। उन्हें ब्रेन हैमरेज हुआ था। ऐसे में डॉक्टरों की निगरानी में दो महीने चले उपचार के दौरान 23 सितंबर 2023 को वृद्ध की मौत हो गई थी। आरोप है कि मरने के बाद डेड बॉडी को फ्रीजर में रख दिया गया, जहां वह 17 दिन तक रखी रही। बाद में यह मामला खुला।
कौशाम्बी के पोस्टमार्टम हाउस में कर्मचारी की धन वसूली का वीडियो वायरल हुआ है। उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के निर्देश पर मुख्य चिकित्साधिकारी ने डिप्टी सीएमओ डॉ. एचपी मणि को जांच सौंप दी है। जांच के बाद दोषी पाये जाने पर संबंधित कर्मचारी के विरुद्ध बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी।

Share.

About Author

Leave A Reply