Tuesday, May 28

विरोध के बावजूद पहले तो ठीक रोड़ को बनवाया और अब तीन महीने में ही टूटने लगी है पीएल शर्मा की सड़क

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 15 दिसंबर (प्र)। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा यूपी की सड़कों को गड्ढा मुक्त बनाने के किये जा रहे प्रयासों के क्रम में नई सड़कों के निर्माण हेतु भी जानकारी अनुसार जिम्मेदार विभागों के अधिकारियों को पैसा और सुविधाऐं दोनों उपलब्ध कराई जा रही है जिससे दुर्घटनाओं में कमी आये और आम आदमी को आवागमन में कोई परेशानी न हो। मगर पता नहीं जिन विभागों पर विश्वास कर माननीय सीएम साहब द्वारा यह काम शुरू कराया गया वो किस सोच को लेकर चल रहे है ये तो वहीं जाने लेकिन बताते है कि थाना लालकुर्ती के क्षेत्र पीएल शर्मा रोड़ पर बेगमपुल से कोपरेटिव चौराहे तक यहां के नागरिकों व व्यापारियों के यह कहते हुए कि अच्छी खासी सड़क को बनाने की क्या आवश्यकता है के बावजूद अक्टूबर माह में दशहरा पर्व पर नई सड़क निर्मित की गई। उस समय भी बताते है कि मानक के अनुकूल निर्माण न होने का मुद्दा कई जागरूक नागरिकों ने उठाया था। लेकिन बनाने वालों ने यह कहकर कि हर बात का ध्यान इसके निर्माण में रखा गया है। नकारखाने में तुती के समान विरोध को दबा दिया था और जिम्मेदार जनप्रतिनिधि भी इस संदर्भ में खामोशी साध गये थे। लेकिन अब कुछ जागरूक नागरिकों के द्वारा भेजे गये फोटो के अनुसार अभी तीन माह भी सड़क बने नहीं हुए कि वो कई जगह से टूट गई जिसे नागरिकों का ध्यान इस ओर से हटाने के लिए पेंचअप कराकर हुए गढ्डों और टूटी सड़कों को सही कराने की बात कही जा रही है।

स्मरण रहे कि माननीय मुख्यमंत्री जी ने पिछले दिनों स्पष्ट कहा था कि प्रदेश में ऐसी सड़के बनवाई जाए जो लंबे समय तक चले और एक अवधि निर्धारित कर इसकी जिम्मेदारी बनाने वालों पर डाली जाए कि वो सड़क की देखभाल करे। लेकिन जनप्रतिनिधियों द्वारा सही प्रकार से ध्यान न दिये जाने का परिणाम ही कह सकते है कि तीन महीने में ही नई बनी सड़के टूटने लगी है। आखिर मुख्यमंत्री के निर्देशों का पालन कराने हेतु आवाज कौन उठायेगा यह विषय चर्चा का है। क्योंकि अफसर तो नागरिकों के अनुसार ठेकेदारों से मिलीभगत के चलते माननीय सीएम के निर्देशों का पालन कराने हेतु तो अफसर आगे आयेगें नहीं।

Share.

About Author

Leave A Reply