Thursday, June 13

राष्ट्रपति बना तो मुस्लिम बहुल देशों पर फिर से लगाऊंगा यात्रा प्रतिबंधः ट्रंप

Pinterest LinkedIn Tumblr +

वाशिंगटन 30 अक्टूबर। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कसम खाई है कि अगर वह व्हाइट हाउस के दूसरे कार्यकाल के लिए चुने जाते हैं, तो कुछ मुस्लिम-बहुल देशों के लोगों पर विवादास्पद यात्रा प्रतिबंध को फिर से लागू करेंगे। शनिवार को रिपब्लिकन यहूदी गठबंधन के वार्षिक शिखर सम्मेलन में बोलते हुए ट्रंप ने कहा, “आपको यात्रा प्रतिबंध याद है?”
ट्रंप ने कहा, “पहले ही दिन, मैं यात्रा प्रतिबंध बहाल कर दूंगा। हमने यात्रा प्रतिबंध लगाया था, क्योंकि हम नहीं चाहते थे कि ऐसे लोग हमारे देश में आएं जो वास्तव में हमारे देश को बदनाम करने के बारे में सोचते हैं।” उन्होंने कहा कि उनके प्रशासन के दौरान लगाया गया यात्रा प्रतिबंध एक बेहतरीन सफलता थी। रिपब्लिकन राष्ट्रपति पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे ट्रंप ने कहा, “हमारे पास चार साल में एक भी घटना नहीं हुई, क्योंकि हमने बुरे लोगों को अपने देश से बाहर रखा। हमने उन्हें बाहर रखा। हमारे पास एक भी घटना नहीं हुई।”

2017 में, ट्रंप के राष्ट्रपति पद की शुरुआत में, उन्होंने ईरान, लीबिया, सोमालिया, सीरिया, यमन और शुरुआत में इराक और सूडान से यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिए। हालांकि, व्हाइट हाउस ने तुरंत पूर्व राष्ट्रपति की आलोचना की। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता एंड्रयू बेट्स ने कहा, “2020 में, राष्ट्रपति जो बाइडन ने इस्लामोफोबिया में आई वृद्धि की निंदा की और उसे बीमारी कहा।

उन्होंने कहा, “द्वेषपूर्ण नफरत के खिलाफ एक साथ आने की जरूरत अब पहले से कहीं अधिक जरूरी है, क्योंकि अमेरिकी मुस्लिम और अरब अमेरिकी तेजी से खुद को भयावह कलंक और दिल दहला देने वाली हिंसा का निशाना बना रहे हैं। बेट्स ने कहा, “कार्यालय में, राष्ट्रपति बाइडन ने इस्लामोफोबिया के खिलाफ अभूतपूर्व कार्रवाई की है और आगे भी कार्रवाई की जाएगी।
सैकड़ों उत्साही समर्थकों के सामने, ट्रंप ने हमास को नष्ट करने, अमेरिका और इजरायल को बर्बर आतंकवादियों से बचाने और बाइडन प्रशासन के ईरान के तुष्टीकरण को पलटने की भी कसम खाई। उन्होंने कहा, “इन बर्बर गतिविधियों से आहत हर इजरायली और हर अमेरिकियों से हम प्यार करते हैं, हम आपके साथ हैं, हम आपके साथ शोक मनाते हैं, हम आपका गुस्सा समझते हैं और हम 100 प्रतिशत, 110 प्रतिशत आपके साथ खड़े हैं।”
एंड्रयू बेट्स ने कहा, “प्रत्येक अमेरिकी जो डरे हुए हैं कि जो बाइडन की कमजोरी हमारे देश को बर्बाद कर देगी, मैं आपसे यह वादा करता हूं, आपके राष्ट्रपति के रूप में, मैं ताकत के माध्यम से शांति बहाल करूंगा और हां, मैं तीसरे विश्व युद्ध को रोकूंगा।”

Share.

About Author

Leave A Reply