Sunday, June 23

मांस मछली की खुले में बिक्री प्रतिबंध करने के फैसले पर मध्य प्रदेश सरकार पुनर्विचार करेंः मायावती

Pinterest LinkedIn Tumblr +

लखनऊ 16 दिसंबर। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने मध्य प्रदेश में खुले स्थानों पर मांस और मछली की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर नवगठित भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर शुक्रवार को निशाना साधा है। उन्होंने कहा इस विवादित फैसले पर पुनर्विचार करने की जरूरत है।

मध्य प्रदेश की नई बनी भाजपा सरकार द्वारा बेरोजगारों व अन्य गरीब मेहनतकशों को रोटी-रोजी उपलब्ध कराने का जरूरी फैसला करने के बजाय, रोजगार के अभाव में मछली, अण्डा, मीट आदि का खुले में स्वरोजगार करने वालों पर दमन शुरू कर देना कितना उचित? इस विवादित फैसले पर पुनर्विचार जरूरी। — Mayawati (@Mayawati) December 15, 2023

मायावती ने शुक्रवार को सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ (पूर्व में ट्विटर) पर एक पोस्ट में कहा, ‘‘मध्य प्रदेश की नवगठित भाजपा सरकार द्वारा बेरोजगारों व अन्य गरीब मेहनतकशों को रोटी-रोजी उपलब्ध कराने के जरूरी फैसला करने के बजाय, रोजगार के अभाव में मछली, अंडा, मीट आदि का खुले में स्वरोजगार करने वालों का दमन शुरू कर देना कितना उचित? इस विवादित फैसले पर पुनर्विचार जरूरी।” उन्होंने कहा, ‘‘मध्य प्रदेश सरकार ही नहीं बल्कि सभी सरकारों को महंगाई, गरीबी और बेरोजगारी जैसी समस्या को दूर करने के लिए पूरी तन्मयता से काम करने की जरूरत है। फिर भी इन चीजों के खुले में व्यापार करने पर इतनी ज्यादा आपत्ति है तो उन्हें उजाड़ने से पहले सरकार दुकान आवंटित करने की व्यवस्था क्यों नहीं करती?”

मध्य प्रदेश सरकार ही नहीं बल्कि सभी सरकारों से महंगाई, गरीबी व बेरोजगारी आदि को दूर करने पर ही पूरी तन्मयता से काम करने की जरूरत। फिर भी इन वस्तुओं के खुले में व्यापार करने पर इतनी ज्यादा आपत्ति है तो उन्हें उजाड़ने से पहले दुकान एलाट करने की व्यवस्था सरकार क्यों नहीं करती?

बताते चले कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने पद की शपथ लेने के बाद अपनी पहली मंत्रिमंडल बैठक करते हुए बुधवार को खुले स्थानों पर मांस और मछली की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था। मुख्यमंत्री यादव ने कहा था कि खुले में मांस और मछली की बिक्री पर प्रतिबंध लागू करने के लिए खाद्य विभाग, पुलिस और स्थानीय शहरी निकायों द्वारा 15 से 31 दिसंबर तक एक अभियान चलाया जाएगा।

Share.

About Author

Leave A Reply