Saturday, February 24

2 पुलिसकर्मियों ने ही कर डाली 14 लाख की लूट, केस दर्ज, डीसीपी ने किया सस्पेंड

Pinterest LinkedIn Tumblr +

इंदौर 29 दिसंबर। 14 लाख से भरे मिठाई के डिब्बों का पार्सल बस से लूटने के मामले में चंदन नगर थाने के 2 पुलिसकर्मियों को अधिकारियों ने गिरफ्तार कराया है। आरोपी पुलिसकर्मियों की पोल तब खुली, जब नाॅवेल्टी मार्केट के व्यापारी ने थाने पहुंच बस से पैसा गायब होने की रिपोर्ट दर्ज करवाई। केस की शुरुआती जांच में सामने आए तथ्यों को अधिकारियों ने गंभीरता से लिया। बस ड्राइवर को थाने लाकर पुलिसकर्मियों की शिनाख्त परेड करवा दी। फिर पता चला कि बीट आरक्षकों ने बस से पैसा लूटा है। प्रथम दृष्टया पुलिसकर्मी को दोषी मान अधिकारियों ने सस्पेंड कर दोनों पर लूट का केस दर्ज कराया है। दोनों आरोपी अनुकंपा नियुक्ति वाले हैं।

एडिशनल डीसीपी अभिनय विश्वकर्मा के मुताबिक, 25 दिसंबर को धार रोड पर बस से 14 लाख का पार्सल उठाकर ले जाने पर चंदन नगर थाने के आरक्षक योगेश सिंह चौहान, दीपक यादव के खिलाफ लूट का केस दर्ज किया है। दोनों को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया है। दरअसल, नाॅवेल्टी व्यापारी फरियादी अंकित जैन निवासी संगम नगर की शिकायत पर पंजाब बस ट्रेवल्स के चालक नरेंद्र तिवारी के खिलाफ अमानत में खयानत का केस दर्ज हुआ। फरियादी ने बताया कि उन्होंने बस में 14 लाख का पार्सल रख अहमदाबाद निवासी कन्हैयालाल पटेल को भेजे थे। बाद में पटेल से उन्हें पता चला कि बस चालक से आज तक उन्हें पैसे नहीं मिले हैं।

इस वजह से चालक के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया। बस चालक से पूछताछ के बाद थाने के पुलिसकर्मियों की केस में संलिप्तता होने की बात पता चली। जांच के चलते थाने में शिनाख्त परेड हुई तो आरक्षक योगेश, दीपक की असलियत सामने आ गई। फिर पता चला कि दोनों घटना तारीख को बस से जबरदस्ती पार्सल ले गए थे। उनके द्वारा थाने में किसी तरह की जब्ती और ना ही कार्रवाई दर्शाई गई। इस वजह से दोनों के खिलाफ लूट का केस दर्ज किया। दोनों की तत्काल वर्दी उतरवाकर गिरफ्तार कराया और थाने में बंद किया। बाद में दोनों को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया गया।

एडिशनल डीसीपी ने बताया, बस से लूटे गए पैसे वैधानिक है या नहीं, इस संबंध में जांच कर रहे हैं। इंकम टैक्स को इस संंबंध में जानकारी दी है। पैसा हवाला करने के संबंध में जांच कर रहे हैं। सामने आए तथ्यों में पता चला है कि पुलिसकर्मियों ने बीट भ्रमण के दौरान बस को तलाशी के लिए रोका और ड्राइवर से पूछताछ के बाद पार्सल जबरदस्ती ले गए। इस संबंध में बस यात्री से बात की है। कुछ और यात्रियों से पूछताछ बाकी है।

पुलिस जांच में यह भी पता चला कि फरियादी जैन ने बस ड्राइवर और मालिक को अहमदाबाद मिठाई का पार्सल भेजने की बात कही थी, जबकि डिब्बों में चौदह लाख नकदी थे। अधिकारियों ने उनसे सवाल किए कि आज के दौर में पैसा ऑनलाइन करने की सुविधा है। इस पर व्यापारी बोले कि अहमदाबाद के पटेल से व्यापारिक लेनदेन है। टैक्स बचाने के चक्कर में उन्होंने पैसे इस तरह भेजे थे।
एडिशनल डीसीपी ने बताया, शिनाख्त परेड के दौरान पकड़ाए पुलिसकर्मी से पूछताछ की तो उन्होंने बस से पैसे ले जाने की बात कबूली। अब पैसा जब्त करना बाकी है।

Share.

About Author

Leave A Reply