Saturday, February 24

मेरठ में पंजाबी समाज ने की भाजपा से टिकट की दावेदारी, बोले-जनसंघ से पार्टी के साथ

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 12 फरवरी (प्र)। पंजाबी समाज ने अब भाजपा से टिकट की दावेदारी की बात कही है। पंजाबी समाज ने पत्रकार वार्ता कर स्पष्ट किया कि भाजपा को अगर पंजाबी समाज का वोट चाहिए तो टिकट में पंजाबी समाज को भागीदारी देनी होगी। पंजाबी समाज महासमिति उप्र की प्रेसवार्ता में पंजाबी समाज के राष्ट्रीय, प्रदेश स्तरीय तथा स्थानीय पदाधिकारियों ने भाग लिया।
प्रदेश अध्यक्ष निशान्त परूथी व राष्ट्रीय संयोजक प्रवीन सेठी ने बताया कि पंजाबी कौम एक बहुत मेहनती और स्वाभिमानी कौम है।

सभी जानते हैं कि विभाजन के बाद पंजाबी समाज के पास कुछ नहीं था। अपनी लगन और मेहनत के बल पर आज पंजाबी एक कामयाब कौम है। उन्होंने यह भी कहा कि पंजाबी समाज ने जनसंघ के समय से ही भारतीय जनता पार्टी का तन-मन-धन से साथ दिया है और पार्टी के आदेश को ही सर्वोपरि माना है। परन्तु अब वह समय आ गया है कि पार्टी को पंजाबी समाज के बारे में भी विचार करना चाहिए। हमें यह कहने में कोई नहीं है कि इतनी मेहनत के बावजूद पार्टी ने हमारे समाज के अधिकतर लोगों को लोकसभा टिकिट से वंचित रखा है।

पंजाबी समाज के पदाधिकारियों ने कहा कि हम लोग भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आदरणीय जेपी नड्डा, गृहमंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष, राष्ट्रीय महामंत्री सुनील बंसल, राष्ट्रीय महामंत्री तरुण चौग, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी और प्रदेश संगठन मंत्री धर्मपाल सहित समस्त क्षेत्रीय अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी पत्र भेजकर आग्रह किया है कि लोकसभा चुनाव-2024 में उत्तर प्रदेश राज्य में हमारे पंजाबी समाज के योग्य कार्यकर्ताओं को पार्टी की ओर से टिकट दिया जाए।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सबसे बड़ी समर्थक कौम पंजाबी समाज के पार्टी कार्यकर्ताओं को लोकसभा चुनाव-2024 में टिकट देकर उनका मान बढ़ाया जाए। इस दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश सेठ सूरत, राष्ट्रीय संयोजक प्रवीण सेठी, सर्वश्री डॉ० सुशील कुमार सूरी, एडवोकेट विपिन सोढ़ी, सुरेश सज्जनहार, प्रेम कुमार राजन, धीरज चुघ, भूपेन्द्र चौधरी, नवीन अरोड़ा, अमित चांदना, मनमोहन ढल, संजय सभरवाल,सुशील गाँधी, हरप्रीत सिंह मान, गुरमीत साहनी, एवं भारी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Share.

About Author

Leave A Reply