Sunday, April 14

रोबोटिक ट्रांसप्लांट सर्जरी का उपयोग करके बेटे ने अपने लिवर का एक हिस्सा दान करके दिया पिता को नया जीवन

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ, 08 दिसंबर (प्र)। मेरठ के रहने वाले 47 वर्षीय ठेकेदार अवधेश शर्मा पोर्टल हाइपरटेंशन के साथ डिकंपेंसेटेड क्रॉनिक लिवर डिजीज नामक बीमारी से पीड़ित थे, जिनका अमृता हॉस्पिटल, फरीदाबाद में सफलतापूर्वक लिवर ट्रांसप्लांट किया गया। अवधेश के 20 वर्षीय बेटे उत्कर्ष शर्मा ने उन्हें फिर से सामान्य जीवन जीने की नई उम्मीद दी, जिन्होंने अमृता हॉस्पिटल की रोबोटिक लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी की मदद से अपना लिवर डोनेट कर पिता को नए जीवन का उपहार दिया।

आज गढ़ रोड स्थित टिंबकटू रेस्टोंरेट में पत्रकार वार्ता में डॉक्टरों ने कहा कि अवधेश पोर्टल हाइपरटेंशन के साथ डिकंपेंसेटेड क्रॉनिक लिवर डिजीज से जूझ रहे थे। इस स्थिति के कारण उन्हें पेट में बार-बार पानी भरने और लगातार पीलिया का सामना करना पड़ रहा था। उनका ये मुश्किल समय ऐसे ही एक साल तक चलता रहा। मरीज ने अपनी इस बीमारी के लिए मेरठ में कई डॉक्टरों से परामर्श किया, आखिर में वो डॉ. प्रशांत सोलंकी से मिला, जिन्होंने उसकी गंभीर स्थिति का पता लगाया और समय पर अवधेश को अमृता अस्पताल, फरीदाबाद में रेफर कर दिया, जहां उन्होंने लिवर क्लिनिक में आकर हेपेटोलॉजी और गैस्ट्रोएंटरोलॉजी के हेड डॉ. भास्कर नंदी से परामर्श किया, जिन्होंने लिवर ट्रांसप्लांट के बारे में बताया।
इसके बाद, मरीज अमृता हॉस्पिटल में सॉलिड ऑर्गन ट्रांसप्लांट टीम से मिला, जहां लिवर ट्रांसप्लांट की जरूरत के बारे में बताया और ट्रांसप्लांट के लिए आवश्यक कार्यवाही शुरू हुई।

अमृता हॉस्पिटल, फरीदाबाद के हेपेटोपैनक्रिएटोबिलरी (एचपीबी) सर्जरी और सॉलिड ऑर्गन ट्रांसप्लांटेशन के हेड डॉ. एस सुधींद्रन ने कहा, “फरीदाबाद के अमृता हॉस्पिटल में लिवर ट्रांसप्लांट प्रक्रिया के दौरान आधुनिक रोबोटिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया। डोनर के लिवर के दाहिने आधे हिस्से को निकालने के लिए एक रोबोट का उपयोग किया गया। डोनर और रिसिपिएंट दोनों इस बड़ी सर्जरी के बाद जल्दी ठीक हो गए और डोनर को 1 हफ्ता और रिसिपिएंट को 2 हफ्ते के भीतर छुट्टी दे दी गई।
अमृता हॉस्पिटल, फरीदाबाद के सॉलिड ऑर्गन ट्रांसप्लांट की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. जया अग्रवाल ने कहा, “सर्जरी, जो संयुक्त रूप से 12 घंटों तक चली, डॉ. सुधींद्रन, डॉ. उन्नीकृष्णन जी और मेरे साथ-साथ डॉ. दिनेश बालकृष्णन, डॉ. बिनोज एसटी, डॉ. क्रिस्टी टीवी, डॉ. कृष्णनुन्नी नायर, और डॉ. श्वेता मलिक सहित अन्य डॉक्टरों की एक टीम द्वारा संचालित की गई। एनेस्थिसियोलॉजी के हेड डॉ. मुकुल चंद्र कपूर, एनेस्थिसियोलॉजी टीम से डॉ. वंदना सलूजा और डॉ.. शैंकी गर्ग ने भी सहायता की।

Share.

About Author

Leave A Reply