Saturday, February 24

परतापुर में तीन फैक्ट्री और 10 भवन सील

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 06 दिसंबर (प्र)। परतापुर में गहमागहमी के बीच मंगलवार को नगर निगम ने तीन फैक्टरी सहित 10 भवन सील कर दिए। एक फैक्टरी में मालिक और कर्मचारियों को बंधक तक बना लिया। जिस पर हंगामा हुआ मामला तूल पकड़ने से पहले पुलिस मौके पर पहुंची। फैक्टरी मालिक ने छह लाख रुपये का चेक निगम को दिया, तब जाकर सील हटी। निगम का दावा कि तीन जगह पर गृहकर जमा किया है, जिसकी सील तुरंत हटा दी है। महानगर में 100 करोड़ से ज्यादा गृहकर नगर निगम का बकाया है। निगम ने 12 वार्ड में 20 हजार परिवार को नोटिस भी भेजा हुआ है, जिनके भवन पर नए साल पर सीलिंग की कार्रवाई होगी।

मंगलवार को नगर निगम ने गृहकर के बकायेदारों पर कार्रवाई करनी शुरू कर दी है। प्रवर्तन दल की टीम के साथ निगम के अधिकारी परतापुर में पहुंच गए। रिठानी स्थित विशाल ट्रांसफार्मर बनाने की फैक्टरी को निगम की टीम ने सील कर दिया। आरोप लगाया कि फैक्टरी के अंदर मालिक व कर्मचारी मौजूद थे।

जानकारी लगने पर परतापुर इंडस्ट्री मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष निपुण जैन, अश्वनी गिरा और इंडियन इंडस्ट्री एसोसिएशन के अध्यक्ष तनुज गुप्ता, महामंत्री गौरव जैन सहित अन्य व्यापारी पहुंच गए। व्यापारियों ने निगम की कार्रवाई पर आपत्ति जताते हुए हंगामा कर दिया। परतापुर थाने की पुलिस भी पहुंच गई। निगम की टीम ने बताया कि फैक्टरी पर 12 लाख रुपया गृहकर है।
फैक्टरी के बड़े गेट पर सील लगाई लोगों के निकलने के लिए छोटा दरवाजा खुला है फैक्टरी में गाड़ी खड़ी है और करोड़ों का सामान होने की बात कही।काफी देर तक हंगामा चला। फैक्टरी मालिक ने 3-3 लाख के दो चेक निगम को दे दिए। निगम की टीम ने सील हटा दी। उसके बाद निगम की टीम एनएच- 58 स्थित रिलायंस पॉली फैक्टरी पर पहुंची और आठ लाख का गृहकर बताकर सील लगा दी।
उसके बाद एचएच-58 स्थित परतापुर में ऋषि इस्टीट्यूट पर टीम सील लगाने पहुंच गई। इस पर 16 लाख का गृहकर बकाया बताया गया। इंस्टीट्यूट संचालक ने तीन लाख का चेक निगम को दिया और दो लाख का चेक पहले देना बताया। निगम की टीम चेतावनी देकर चली गई। निगम की टीम ने एक शोरूम में सील लगा दी है। शोरूम मालिक ने एक लाख रुपये जमा करके सील तुरंत हटवा दी है। एनएच-58 पर अशोक कुमार सहित पांच लोगों के मकान सील कर दिए है।

बताते चले कि चौधरी चरणसिंह विश्वविद्यालय सहित कई जगह पर गृहकर बकाया है। बकायेदारों के भवन सील करने की कार्रवाई लगातार चल रही है। कुछ लोग गृहकर जमा भी कर रहे है। कुछ लोग गृहकर जमा भी कर रहे है। सील की कार्रवाई रोकने पर नगर निगम कानूनी प्रक्रिया भी कर सकता है।

Share.

About Author

Leave A Reply