Monday, April 15

यूपी विधानसभा शीतकालीन सत्र: काले कपड़े पहनकर पहुंचे सपा नेताओं ने नई नियमावली का किया विरोध

Pinterest LinkedIn Tumblr +

लखनऊ, 28 नवंबर। यूपी विधानमंडल का चार दिवसीय सत्र आज से शुरू हो गया है। सत्र के पहले दिन नेता सदन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भाजपा के दिवंगत नेता आशुतोष टंडन को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उनके निधन से हम सभी दुखी हैं। हम उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। विधानसभा का शीतकालीन सत्र नई नियमावली के साथ शुरू हो रहा है। सपा विधायकों ने इसका विरोध किया है और सदन में काले कपड़े पहनकर पहुंचे। इसके साथ ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्यों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है।
सत्र में सत्ता पक्ष ने विपक्ष को हर मुद्दे पर जवाब देने की रणनीति बनाई है तो विपक्ष ने भी सरकार को घेरने की पूरी तैयारी कर ली है। सीएम योगी ने अपने विधायकों से कहा कि विपक्ष के आरोपों का तथ्यात्मक जवाब दें। बैठक में भाजपा के सहयोगी दलों के विधायक भी मौजूद रहे।

निर्देश दिया गया है कि विधानसभा सत्र में मोबाइल बाहर रख दिया गया है अतः टीवी से ही अपडेट लेने का कष्ट करें।
सपा नेता शिवपाल सिंह यादव ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर सरकार की नाकामियां गिनाते हुए कहा कि यूपी सरकार बिजली, पानी और सड़क के मोर्चे पर पूरी तरह असफल साबित हुई है। सरकार खेती, किसानी और कानून व्यवस्था के मुद्दे पर भी नाकाम हुई है। सरकार सदन चलाने से भागती है और संवाद नहीं करना चाहती है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि आज से विधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। मैं सभी विपक्षी दलों से अपील करता हूं कि सदन की गरिमा बनाए रखें। सरकार जनता के हित से जुड़े मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है। सरकार विपक्ष के सभी सवालों का जवाब देने के लिए तैयार है।

सदन से बाहर अखिलेश यादव ने पत्रकारों से कहा ”यह सरकार का और नई नियमावली का विरोध है क्योंकि ये (सरकार) लोकतंत्र को कमजोर करना चाहते हैं। नियम तो इसलिए बने हैं ताकि लोकतंत्र मजबूत हो। हमें जनता ने चुनकर भेजा है। हमारी जिम्मेदारी बनती है कि जनता के सवालों को उठाएं।”

सपा प्रमुख ने आरोप लगाया ”यह सरकार नहीं चाहती कि हम जनता के सवालों को उनके सामने उठाएं। यह व्यवस्था किस लोकतंत्र में है कि जनता के सवाल न उठाए जाएं। जनता के सवाल न उठें, विपक्ष मुखर होकर न बोले, इसीलिए (सरकार) नियम व पाबंदियां ला रही है। इससे लोकतंत्र कमजोर होगा।” उन्होंने कहा कि जो परंपराएं रही हैं, जो लोकतंत्र की मर्यादा है, उसके तहत ही विपक्षी सदस्य अपने सवाल उठाएंगे। सपा के वरिष्ठ सदस्य मनोज पारस ने कहा ”यह सदन मात्र तीन दिन चलेगा और सदस्‍यों की बात अनसुनी रह जाएगी। इसलिए हम विरोध स्वरूप काले कपड़े पहनकर आये हैं।”

हाल ही में उप चुनाव में मऊ जिले की घोसी विधानसभा सीट पर भाजपा उम्मीदवार, पूर्व मंत्री दारा सिंह चौहान को पराजित कर चुनाव जीतने वाले सपा के सुधाकर सिंह गुलाबी गमछा पहनकर आये थे। उन्होंने कहा ”काले कपड़े पहनने के बारे में जानकारी नहीं थी, लेकिन यह गमछा विजय और राजपूती आन का प्रतीक है।”

Share.

About Author

Leave A Reply