Saturday, July 13

जाट संसद में उठेगी भारत रत्न की मांग

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 28 सितंबर (प्र)। मेरठ में एक अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय जाट संसद का आयोजन किया जाएगा। जिसमें देश-विदेश से आए जाट समाज के लोग शामिल होंगे। लोकसभा चुनाव से पहले जाट संसद में केंद्र में आरक्षण का मुद्दा भी उठेगा। अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद के संयोजक रामावतार पलसानिया व परमेश्वर कलवानिया ने बताया कि उत्तर प्रदेश अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद के अधिवेशन की मेजबानी करेगा और अधिवेशन में देश-विदेश में रहने वाले जाट समाज के प्रबुद्ध लोग भाग लेंगे। इसमें कला, शिक्षा, साहित्य, संस्कृति, रोज़गार सृजन व गौरवशाली जाट इतिहास को जन-जन तक पहुंचाने पर चर्चा होगी।

उन्होंने बताया कि अधिवेशन में उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली, पंजाब, हिमाचल, जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड, गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, मध्यप्रदेश व पश्चिम बंगाल में रहने वाले जाट समाज के लोगों के साथ देश-विदेश में रहने वाले एलपीजी शामिल होंगे। जिसको लेकर तैयारियां की जा रही है।

उन्होंने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद का अधिवेशन ग़ैर राजनीतिक है। मंच पर जाट समाज की बात होगी। राजनीतिक बात ना पहले हुई ना होगी और ना ही भविष्य में होगी। जाट समाज का सभी पार्टियों में नेतृत्व कर रहे सभी जाट समाज के लोगों को आमंत्रित किया गया हैष अमेरिका, इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया, जर्मनी, फ़्रांस, अफ़्रीका समेत अन्य देश से जाट समाज के प्रबुद्ध लोग अधिवेशन में भाग लेंगे।

अधिवेशन में सामाजिक भाईचारा, जाट युवाओं को विदेशों में उच्च शिक्षा के अवसर, जाट समाज के सामाजिक व राजनीतिक नेतृत्व को फिर से कैसे मज़बूत किया जाए, बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने पर मंथन किया जाएगा। नशा मुक्त जाट समाज पर चर्चा, केंद्र में ओबीसी आरक्षण पर चर्चा होगी, जाट महापुरुषों को भारत रत्न की मांग रखी जाएगी, ग्लोबल जाट मीडिया सेंटर पर चर्चा होगी। सभी राजनीतिक दलों के लोग खुलकर जाट समाज के मंचों पर आकर समाज की बात करें, इस पर चर्चा होगी और गौरवशाली जाट इतिहास को डिजिटल करने पर चर्चा होगी।

Share.

About Author

Leave A Reply