Saturday, February 24

न्यायमूर्ति मनोज कुमार गुप्ता को बनाया गया कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश

Pinterest LinkedIn Tumblr +

प्रयागराज, 21 नवंबर। इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति मनोज कुमार गुप्ता को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। वह 22 नवंबर को अपना नया दायित्व संभालेंगे। उन्हें यह दायित्व मुख्य न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर के 21 नवंबर के सेवानिवृत होने की वजह से सौंपा गया है। भारत सरकार के विशेष सचिव राजेंद्र कश्यप की ओर से इस संबंध में गत दिवस अधिसूचना जारी कर दी गई है। जस्टिस मनोज कुमार गुप्ता 12 अप्रैल 2013 को अपर न्यायाधीश के रूप में नियुक्त हुए थे। 10 अप्रैल 2015 को उन्होंने स्थायी न्यायाधीश की शपथ ली। अब दो दिन बाद वो चीफ जस्टिस इलाहाबाद की शपथ लेने वाले हैं। प्रीतिंकर दिवाकर दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर से विधि की पढ़ाई करने के बाद छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू की थी। 2005 में वह बतौर वरिष्ठ अधिवक्ता नामित हुए थे। इसके बाद 2009 में वह छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में जज बने।

2018 में उनका स्थानांतरण इलाहाबाद हाईकोर्ट कर दिया गया। इलाहाबाद हाईकोर्ट में मुख्य न्यायमूर्ति रहे राजेश बिंदल को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाए जाने के बाद वह यहां पर कार्यवाहक मुख्य न्यायमूर्ति नियुक्त हुए। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की संस्तुति के बाद राष्ट्रपति ने उन्हें इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर नियुक्त किया गया था। जजों की 160 की कुल स्वीकृत संख्या वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट में वर्तमान में 92 न्यायाधीश हैं।

मुख्य अतिथि मुख्य न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर ने अपने उद्बोधन में कहा कि मेरे लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है जिसके लिए हम हाईकोर्ट बार एसोसिएशन, इलाहाबाद सभी अधिवक्ताओं का आभार व्यक्त करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि कार्यवाहक मा0 मुख्य न्यायमूर्ति श्री मनोज कुमार गुप्ता जी न्यायिक कार्यो के सम्पादन के दौरान मेरी बहुत मदद किए। बार एसोसिएशन के लिए कुछ और बेहतर कर सके, यही मेरी उनसे अपेक्षाएँ हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply