Friday, February 23

उत्तराखंड के प्रतिष्ठित जागेश्वर धाम मंदिर के अब सरस्वती लोक में भी होगे दर्शन, छोटी उम्र में वरूण अग्रवाल ने किया बड़ा काम

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 23 जनवरी (विशेष संवाददाता)। उत्तराखंड अल्मोड़ा के प्रसिद्ध जागेश्वर धाम मंदिर में दर्शन न कर पाने से मिली प्रेरणा के उपरांत एडको डबलोपर के श्री वरूण अग्रवाल ने पिता कैन्ट विधायक अमित अग्रवाल और माता मधु अग्रवाल की प्रेरणा और पत्नी श्रीमति अग्रवाल के सहयोग से दिल्ली रोड़ स्थित सरस्वती कालोनी में 25 सौ वर्ग गज में जागेश्वर महादेव मंदिर का भव्य निर्माण प्रभु राम की कृपा से करा दिया। बीती 15 जनवरी से शुरू हुए धार्मिक आयोजन श्री कैलाश तीर्थ आश्रम के संस्थापक श्री 1008 कनक प्रभानंद सरस्वती महाराज के सानिध्य में बीती 22 जनवरी को जहां अयोध्या नगरी में भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा समारोह चल रहा था वहीं यहां शारदा पीठाधीश्वर जगत गुरू शंकराचार्य स्वामी राजराजेश्वश्रम महाराज की गरिमामय उपस्थिति में नवनिर्मित जागेश्वर महादेव मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह चल रहा था। जिसके गर्भगृह में नर्मादेश्वर से लाकर शिवलिंग स्थापित किया गया। मंदिर के लिए पत्थर दक्षिण भारत सहित चार जगह मकराना से संगमरमर जैसलमेर से पीला पत्थर बंशी पहाड़पुर से दौसा हड़प्पा से काला पत्थर अलग अलग शहरों से मंगाया गया।

श्री सरस्वती प्रेम स्मृति ट्रस्ट के महासचिव श्री वरूण अग्रवाल के अनुसार 25 सौ वर्गगज में बनाये गये जागेश्वर धाम मंदिर का भवन 3 सौ गज में निर्मित किया गया है बाकी 22 सौ वर्ग गज भूमि को हराभरा मैदान सुशोभित है जो हरियाली से परिपूर्ण होगा। बताते है कि मंदिर में 21-31 और 51 किलो के तीन घंटे मंगाकर मुरादाबाद से लगाये गये है। शिव परिवार का सिंहासन सहारनपुर से आया।

वैसे तो बच्चे मां बापों के सामने हमेशा ही बालक रहते है इसलिए वरूण अग्रवाल भले ही अपनी प्रखर बुद्धि वाक चातुरिर्य और कार्य नीति के चलते रियल स्टेट में धीरे धीरे बड़ा और प्रतिष्ठित नाम बनाते जा रहे है। लेकिन युवा उम्र में इतने भव्य मंदिर का निर्माण कराकर उन्होंने पूर्व में राजा महाराजाओं के परिवार और उनके बच्चों द्वारा बनवाये जाने वाले धार्मिक संस्थानों मंदिर धर्मशाला आदि के समान अपने ट्रस्ट के माध्यम से श्री जागेश्वर धाम मंदिर का निर्माण कराकर खुद तो बड़ा काम किया ही है अपने माता पिता की भी प्रतिष्ठा बढ़ाई है। मंदिर के गर्भगृह के तीनों द्वारों पर भगवान शिव के 108 नाम अंकित है। एवं मंदिर का शिखर जो जागेश्वर धाम अल्मोड़ा से प्रेरित है उसे बड़े ही सुन्दर तरीके से तरासा गया है।

बीते आठ दिन के धार्मिक आयोजनों में प्रतिदिन केन्द्र और प्रदेश सरकार का कोई न कोई मंत्री सांसद और विधायक अथवा प्रतिष्ठित नागरिक शामिल हुए तथा बीती 21 तारीख को निकली भव्य शोभा यात्रा हर प्रकार से उल्लेखनीय थी। यह कह सकते है कि शहर में धार्मिक जनो के लिए अब जागेश्वर धाम मंदिर के रूप में एक और दर्शनीय और आस्था का प्रतीक तीर्थ स्थल मिल गया है।
स्मरण रहे कि कुछ वर्ष पहले दिल्ली रोड से इस कालोनी तक जाने वाले मार्ग से होकर निकलना मुश्किल था लेकिन अग्रवाल परिवार के प्रयासों से अब इस रोड पर निवास करने वाले सभी नागरिक माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के स्वच्छ वातावरण अभियान का अहसास यहां से निकलते और सांस लेते करते है।

Share.

About Author

Leave A Reply