Monday, April 15

हर चौराहे पर होती है वसूली, अब वीडियो बनाएंगे- विधायक

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 09 नवंबर (प्र)। जीरोमाइल पर राजस्थान के ट्रक से वसूली के मामले में जनप्रतिनिधि की आंखोंदेखी पर भी अफसर यकीन नहीं कर रहे हैं। विधायक ने ट्रक चालक से पांच हज़ार रुपये मांगते तीन पुलिसकर्मियों को पकड़ लिया था तब भी पुलिस अफसरों ने तीनों पुलिसकर्मियों को क्लीनचिट दे दी हैं। इस पर विधायक का कहना है कि हर चौराहे पर वसूली होती है अब वीडियो बनाकर मुख्यमंत्री को ही भेजेंगे।

कैंट विधायक अमित अग्रवाल मंगलवार रात कंकरखेड़ा से जीरोमाइल होते हुए लौट रहे थे। रात 9:50 बजे जीरोमाइल पर राजस्थान का एक ट्रक खड़ा था, जिसकी वजह से रोड जाम था। विधायक के गनर उतरे और उन्होंने यातायात सुचारू करने की बात कहीं। इसी बीच विधायक भी गाड़ी से उतर गए। विधायक का कहना था कि एक पुलिसकर्मी वर्दी में था, जबकि दो वर्दी में नहीं थे तीनों चालक से पांच हजार की मांग रहे थे। विधायक को देखते ही दीपक और मोनू बाइक छोड़कर भाग गए, जबकि अंकित को पकड़कर मेडिकल कराया, जिसमें एल्कोहल की पुष्टि नहीं हुई विधायक ने मौके से एसपी यातायात को काल कर सूचना दी। इसके बाद भी पुलिस जांच में तीनों पुलिसकर्मियों को क्लीनचिट दे दी गई।

ये दोनों पक्ष के तर्क
एसपी यातायात जितेंद्र श्रीवास्तव का कहना है कि शहर में नो एंट्री का समय दस बजे हैं। 9:50 पर आए ट्रक को यातायात पुलिस ने रोका और चालान करने का प्रयास किया। विधायक ने ही ट्रक को छोड़ने के आदेश दिए। दस बजे तक पुलिसकर्मियों की ड्यूटी थी। इसलिए वह विधायक के आने पर निकल गए थे। अंकित को पकड़ लिया था उसके मेडिकल में एल्कोहल की पुष्टि नहीं हुई है। वीडियो में कोई ऐसी बात सामने नहीं आ रही है कि पुलिसकर्मी वसूली कर रहे थे।

विधायक अमित अग्रवाल ने बताया कि 9:50 बजे नो एंट्री में ट्रक कहां से घुसा? कंकरखेड़ा या मोदीपुरम से ट्रक को पुलिस ने जीरोमाइल तक क्यों आने दिया? ड्यूटी दस बजे तक थी। पुलिसकर्मी 9:52 बजे ही बाइक छोड़कर क्यों भाग गए? दीपक और मोनू बिना वर्दी के ड्यूटी क्यों कर रहे थे? उन दोनों का मेडिकल क्यों नहीं कराया गया ? पुलिस ड्यूटी चार्ट दिखाए क्या दीपक और मोनू की ड्यूटी थी? अब वसूली के वीडियो बनाकर मुख्यमंत्री को भेजे जाएंगे।

विधायक के करीबियों का कहना है कि योगी सरकार जीरो टॉलरेंस नीति पर चलती है। प्रशासन से उम्मीद करते हैं कि वे भी सीएम की जीरो टॉलरेंस नीति पर ही काम करें। उन्होंने सवाल किया कि जब उगाही नहीं की जा रही थी तो ट्रैफिक सिपाही बाइक छोड़कर क्यों भागा। कथित उगाही करते हुए ट्रैफिक के सिपाहियों को खुद कैंट विधायक अमित अग्रवाल ने पकड़ा है, इसलिए यह मामला आसानी से ठंडा हो जाएगा, इसके आसार नजर नहीं आ रहे हैं। यह भी पता चला है कि जिन पर आरोप है उन्हें निलंबित किया जा सकता है।

Share.

About Author

Leave A Reply