Thursday, June 13

संदिग्ध परिस्थितियों में एक ही फंदे पर लटके मिले 11वीं के 2 छात्र, दोनों में भी गहरी दोस्ती

Pinterest LinkedIn Tumblr +

फरीदाबाद 25 सितंबर। सूरजकुंड रोड स्थित लेजरवैली पार्क के पास पेड़ से संदिग्ध परिस्थितियों में दो नवयुवकों के शव मिले हैं। इनकी पहचान सेक्टर 85 निवासी यश पुत्र विकास और सेक्टर-31 निवासी युवराज पुत्र रामपाल के रूप में हुई है। अब तक मिली जानकारी के अनुसार, दोनों दोस्त कई सालों तक एक ही स्कूल एमराल्ड में साथ-साथ पढ़ते थे और गहरे दोस्त थे और दाेनों के घर सेक्टर-31 में थे।

पिछले एक साल से युवराज का परिवार ग्रेटर फरीदाबाद में सेक्टर-85 में लिए नए घर में शिफ्ट हो गया था। 11वीं कक्षा में पढ़ने वाले दोनों के स्कूल भी बदल गए थे। अब युवराज फरीदाबाद कान्वेंट स्कूल में पढ़ रहा था और यश दिल्ली स्कॉलर इंटरनेशनल स्कूल में। दोनों 11वीं कक्षा के छात्र थे।
इस कारण से दोनों का मिलना-जुलना कम हो गया थ। स्वजन के अनुसार इस कारण से दोनों अवसाद में थे। रविवार शाम को युवराज स्कूटी लेकर यश के पास आया, वहां से दोनों एक ही स्कूटी पर बैठ कर निकले। उसके बाद से दोनों लापता थे। सोमवार सुबह लेजरवैली पार्क के पास एक ही रस्सी से फंदे पर लटके मिले। मौके पर ही स्कूटी खड़ी मिली, वहीं पर उन्होंने एक साथ बैठ कर खाना खाया था।

यश के पिता विकास के अनुसार बेटा घर से दोपहर को 3 बजे घर से बाहर गया था। जो कई घंटे तक घर नहीं आया तो परिजनों की ओर से पुलिस को सूचना दी गई। इसके बाद पुलिस ने गौतम के फोन को सर्विलांस पर लगाया था। जिसके बाद उसकी लोकेशन सिद्ददाता आश्रम के पीछे जंगलों में आई। पुलिस को उसकी लोकेशन तो रात 9 बजे पता लग गई थी। लेकिन फिर भी वह सही लोकेशन पर नहीं जा पा रही थी। आखिर मशक्कत के बाद पुलिस रात लगभग 12 बजे यश तक पहुंच गई। लेकिन वहां वह और युवराज एक ही फंदे से लटके हुए थे।

मृतक के पिता ने बताया कि वे भी मौके पर क्राइम ब्रांच के साथ घटनास्थल पर गए थे। लेकिन पुलिस ने दोनों के शव लटके देख इसे आत्महत्या करार दिया है। दोनों के घुटने पूरी तरह से जमीन से टकरा रहे थे। युवराज के पूरे पैर जमीन पर थे। पुलिस ने मामले में काफी जल्दबाजी की है। फोरेंसिक टीम को भी नहीं बुलाया गया, न ही मौके से सबूत जुटाए गए। जबकि वहां पर खाने के डिब्बे और सिगरेट के पीने के बाद टुकड़े पड़े हुए मिले हैं।

आखिर इतने घने जंगल में बच्चे स्कूटी लेकर कैसे पहुंचे। उनको ऐसी कोई वजह नहीं दिखी कि बच्चों ने सुसाइड की हो। दोनों अलग-अलग स्कूलों में पढ़ते थे। अलग-अलग रहते थे। उनके साथ कोई और भी था। जिसने साथ में खाना खाकर सिगरेट पी है। जिसके बाद हत्या कर शव लटकाए गए हैं।
पुलिस ने फिलहाल अपनी कार्रवाई करके शवों को पोस्टमार्टम के लिए जिला नागरिक बादशाह खान अस्पताल भेज दिया है।

Share.

About Author

Leave A Reply