Thursday, June 13

अवैध पटाखा फैक्ट्री में मजदूरों की मौत मामले में आरोप‍ित गौरव गुप्ता गिरफ्तार

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 20 अक्टूबर (प्र)। अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाके से पांच कर्मचारियों की मौत के मुख्य आरोपित गौरव गुप्ता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का दावा है कि प्लास्टिक फैक्ट्री में टाय गन के पैलेट तैयार होते थे। उसके लिए रखे हुए केमिकल्स से ही धमाका हुआ है।

बिहार से पहुंचे मृतकों के स्वजन का आरोप है कि गौरव गुप्ता जबरन पटाखे बनवा रहा था। फोन पर कर्मचारियों ने अपने स्वजन को इसकी जानकारी भी दी थी। धमकी दी गई कि बीच में काम छोड़कर गए तो चोरी के आरोप में जेल भिजवा देगा। उन्होंने गौरव को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग की।स्वजन देर शाम मुआवजे की मांग को लेकर सड़क पर बैठ गए। जाम लगाया तो पुलिस ने लाठी फटकार कर हटा दिया। हालांकि बाद में समझाया गया कि मुआवजे की प्रक्रिया शुरू करा दी गई है। उन्हें जल्द मुआवजे की रकम मिलेगी। हिरासत में लिए लोगों को छोड़ दिया।

संजय गुप्ता की लोहिया नगर में तीन मंजिला इमारत थी। इसे गौरव गुप्ता, उदयराज और आलोक रस्तोगी को किराए पर दे रखा था। गौरव प्लास्टिक फैक्ट्री की आड़ में अवैध रूप से पटाखे बना रहा था। मंगलवार सुबह धमाका होने से पूरी इमारत गिर गई। धमाके में भोजपुर (बिहार) के पांच कामगारों की मौत हो गई। गुरुवार को उनके स्वजन शव लेने के लिए यहां पहुंचे। शवों को बिहार तक पहुंचाने का खर्च प्रशासन और अंतिम संस्कार का खर्च पुलिस ने उठाने का भरोसा दिया।

सीओ अमित राय ने बताया कि पूछताछ में गौरव ने बताया कि टाय गन के पैलेट बनाता था। उसमें प्रयोग होने वाले केमिकल्स से ही धमाका हुआ है। हालांकि पुलिस गौरव की बातों पर यकीन नहीं कर रही है। उससे पूछताछ की जा रही है। बिल्डिंग स्वामी संजय गुप्ता की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है।

Share.

About Author

Leave A Reply