Monday, May 20

अवैध संबंधों के चलते हुई इंस्पेक्टर की हत्या, पत्नी ने भाई संग मिल बनाया था मास्टरप्लान

Pinterest LinkedIn Tumblr +

लखनऊ 20 नवंबर। उत्तर प्रदेश में दिवाली की रात पुलिस इंस्पेक्टर के कत्ल के मामले में बड़ा ही चौंकाने वाला पहलू सामने आया है। पता चला है कि यह कांड किसी और ने नहीं, बल्कि इंस्पेक्टर के अपने साले ने ही किया था। इतना ही नहीं, लगभग 3 महीने पहले बनाए गए इस मास्टर प्लान में उसकी खुद की बीवी भी शामिल थी। एक हफ्ते के बाद पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार करके रिमांड पर ले लिया है। खास बात यह है कि इस वारदात की छानबीन में जुटी पुलिस ने लगभग 500 सीसीटीवी फुटेज खंगाली, लेकिन जब कत्ल के आरोपी साले की पहचान हुई तो सिर्फ चप्पलों की वजह से।

बता दें कि लखनऊ के मानस नगर में रविवार 12 नवंबर की रात प्रयागराज स्थित पीएसी की चौथी बटालियन में तैनात इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वारदात को उस वक्त अंजाम दिया गया था, जब रात करीब दो बजे वह अपनी बहन के यहां से घर लौट रहे थे। घर के पास पहुंचते ही बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी तो आस-पड़ोस के लोग अपने-अपने घरों से बाहर निकले। जब लोग बाहर आए तो हमलावर वहां से भाग चुके थे और इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह खून से लथपथ पड़े थे। आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया गया, लेकिन वहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

पुलिस ने छानबीन शुरू की तो परिवार के लोग किसी भी तरह की कोई रंजिशबाजी होने से इनकार करते नजर आए। डीसीपी विनीत जायसवाल ने बताया कि पुलिस को शुरू से सतीश कंमार की पत्नी भावना पर शक था। हालांकि आधे घंटे की पूछताछ में उसने फायरिंग के लगभग एक मिनट बाद कार से निकलने के सवाल पर कहा कि वह उसकी आंख लगी हुई थी। जैसे ही आंख खुली और गाड़ी से बाहर निकली, काले कपड़े पहने एक युवक भागते दिखाई दिया। इसके बाद पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो कोई सुराग नहीं मिला, फिर उसकी (भावना की) कॉल डिटेल निकवाई और उनके आधार पर फिर से पूछताछ की गई। उस वक्त भी भावना ने वही पहले दिन वाली बात दोहराई।

डीसीपी जायसवाल की मानें तो आखिर कड़ियां जोड़ते हुए पुलिस ने आरोपियों को धर ही लिया। पहले तो किरायेदार युवती ने इंस्पेक्टर सतीश से संबंध की बात कबूल कर ली, जो उसकी पत्नी भावना ने कही थी। इसके अलावा सतीश के साले देवेंद्र ने वारदात के वक्त भी वही चप्पल पहन रखी थी, जो वारदात के बाद जांच-पड़ताल के चलते कोतवाली में आते वक्त पहनी थी। इसी के आधार पर सुराग मिला और कड़ाई से पूछताछ के बाद उसने बताया कि सतीश के कई महिलाओं और युवतियों के साथ संबंध थे, जिन्हें कई दोस्तों के साथ घर भी लेकर आता था। इसी से तंग आ चुकी भावना ने अपने भाई के साथ मिलकर तीन महीने पहले सतीश को ठिकाने लगाने की साजिश तैयार की थी।

Share.

About Author

Leave A Reply