Thursday, June 13

नशा मुक्त भारत अभियान में सहयोग करेगा इस्कॉन

Pinterest LinkedIn Tumblr +

नई दिल्ली 24 नवंबर । सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने नई दिल्ली में केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार, विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों और इस्कॉन के वरिष्ठ सदस्यों की उपस्थिति में, नशा मुक्त भारत अभियान (एनएमबीए) के लिए, अंतर्राष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत सोसायटी (इस्कॉन) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

सभा को संबोधित करते हुए, डॉ वीरेंद्र कुमार ने कहा कि एनएमबीए के तहत धार्मिक/आध्यात्मिक संगठनों के सहयोग से विभिन्न गतिविधियों को करने के लिए नशीले प्रदार्थों के प्रति संवेदनशील भारत बनाने की दिशा में बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस्कॉन के साथ यह समझौता ज्ञापन युवाओं, महिलाओं, छात्रों आदि के बीच एनएमबीए के संदेश को फैलाने में सहायता करेगा।

केंद्रीय मंत्री ने इस्कॉन से कहा कि वे अपनी सभी बैठकों और सभाओं में एनएमबीए अभियान का प्रचार करें। डॉ वीरेंद्र कुमार ने कहा कि उनका मंत्रालय देश भर में 550 से अधिक स्वयंसेवी संगठनों के माध्यम से उचित उपचार, प्रचार, समुदाय तक पहुंचने और उन्हें जागरूक करने के लिए लगातार कार्यक्रम चला रहा है।

डॉ वीरेंद्र कुमार ने आगे बताया कि उनके मंत्रालय ने नवचेतना मॉड्यूल विकसित किया है, जो भारत में स्कूली छात्रों के बीच जीवन कौशल और नशीली दवाओं के दुरुपयोग पर जागरूकता और शिक्षा को बढ़ाएगा। इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य न केवल स्कूली बच्चों के बीच नशीली दवाओं के दुरुपयोग की शुरुआत को धीमा करना है, बल्कि इसे हमेशा के लिए रोकना भी है। इसके अतिरिक्त, नवचेतन पर प्रशिक्षण सामग्री का 12 क्षेत्रीय भाषाओं में अनुवाद किया जा रहा है। शिक्षकों की सहायता के लिए दीक्षा पोर्टल पर ऑनलाइन अपलोड करने के लिए प्रत्येक मॉड्यूल भी उपलब्ध होगा।

डॉ वीरेंद्र कुमार ने कहा कि उनके मंत्रालय ने एक वर्ष में नवचेतना मॉड्यूल के माध्यम से 300 जिलों, 30,000 स्कूलों, 10 लाख शिक्षकों और 2.4 करोड़ छात्रों को कवर करने का लक्ष्य रखा है। डॉ. कुमार ने कहा कि यह मॉड्यूल नशा मुक्त भारत अभियान (एनएमबीए) की यात्रा में गेम चेंजर साबित होगा।

मंत्रालय ने महत्वाकांक्षी नशा मुक्त भारत अभियान (एनएमबीए) शुरू किया है, जो वर्तमान में देश के सभी जिलों में चल रहा है। इस अभियान का उद्देश्य, युवाओं के बीच मादक द्रव्यों के सेवन के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता पैदा करना, विशेष रूप से, उच्च शिक्षा संस्थानों, विश्वविद्यालय परिसरों, स्कूलों में, समुदाय तक पहुंचना, सामुदाय द्वारा अभियान को अपनी संपत्ति की तरह समझकर उसमें भागीदारी करना, है। अब तक, 3.37 करोड़ से अधिक युवाओं, 2.26 करोड़ से अधिक महिलाओं और 3.27 लाख से अधिक शैक्षणिक संस्थानों सहित 10.71 करोड़ से अधिक लोग नशा मुक्त भारत अभियान का हिस्सा बन चुके हैं।

इस्कॉन इंडिया यूथ काउंसिल के अध्यक्ष श्री सुंदर गोपाल दास ने नशीली दवाओं के खिलाफ इतना बड़ा अभियान शुरू करने के लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय को बधाई दी। इस क्षेत्र में काम करने के अपने अनुभवों के माध्यम से, उन्होंने एक अनुकूल पारिवारिक और सामाजिक वातावरण के महत्व पर जोर दिया जो मादक द्रव्यों के उपयोग को रोकने के साथ-साथ उस पर काबू पाने में भी मदद करेगा। उन्होंने तंबाकू, शराब और नशीली दवाओं के दुरुपयोग के कारण राष्ट्र को होने वाले आर्थिक नुकसान पर जोर दिया और नशा मुक्त भारत अभियान में भागीदारी और नशा मुक्त भारत में योगदान देने पर जोर दिया।

Share.

About Author

Leave A Reply