Friday, March 1

जली कोठी में फॉगिंग के धुएं से एक परिवार के तीन बच्चे और आठ महिलाएं बेहोश, निगम के खिलाफ जताई नाराजगी

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 25 नवंबर (प्र)। फॉगिंग के चलते महिला और बच्चों के बेहोश होने पर जली कोठी से जिला अस्पताल तक चीख पुकार मच गई। लोगों ने निगम के खिलाफ नाराजगी जताते हुए नारेबाजी भी की है। लोगों का आरोप है कि नगर निगम के कर्मचारियों को फॉगिंग की दवाई की जानकारी नहीं। अनट्रेंड कर्मचारी फॉगिंग कर रहे हैं। इस मामले में लोगों ने नगर निगम के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। देर रात तक लोगों ने तहरीर नहीं दी। हालांकि नगर निगम, पुलिस और प्रशासन के अधिकारी पीड़ित परिवार को समझने में लगे हुए हैं और उनका पूरा इलाज करने का आश्वासन दिया हैं।
नगर निगम ने फागिंग की मशीन और अनट्रेंड कर्मचारियों को दे रखी है। इसे लेकर पहले भी शिकायत हुई थी बताया गया है कि फागिंग की मशीन में जो कीटनाशक दवाइयां डाली जाती है उसको भी इसकी भी कर्मचारियों को जानकारी नहीं है फॉकिंग मशीन में अधिक मात्रा में कीटनाशक दवाई डालने के चलते कई बार हादसे हुए हैं बताया जा रहा है कि जली कोठी में भी फॉकिंग मशीन में कीटनाशक दवाई की मात्रा ज्यादा थी जिसके चलते यह हादसा हुआ है।

जली कोठी में नगर निगम द्वारा मच्छरों को मारने के लिए फॉगिंग कराई जा रही थी। इसी दौरान फॉगिंग के धुएं से एक परिवार के तीन बच्चे और 8 महिलाएं बेहोश हो गई। हालत बिगड़ने पर परिवार के लोगों ने उनको जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया। जिसमें से चार महिलाओं की हालत गंभीर बनी हुई है। जानकारी लगते ही सिटी मजिस्ट्रेट और प्रभारी नगर स्वास्थ्य अधिकारी भी अस्पताल में पहुंच गए। पीड़ित परिवार ने फॉगिंग करने वालों कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

जिला अस्पताल में शाहीन, सना, मीनाहा, गुलिस्ता, लुगाना, समजा बच्चे हमजा, आमिर, नासिर को भर्ती कराया है। जिनमें से शाहीन, गुलिस्ता और लुगाना की हालत ज्यादा गंभीर बताई गई है।

शुक्रवार को जली कोठी स्थित पूर्वा अहमद नगर में नगर निगम की टीम फॉगिंग कर रही थी। इसी दौरान बरकत अली के घर की तरफ फॉगिंग की मशीन का मुंह कर दिया। जिसके चलते बरकत की पत्नी सहित आठ महिला और 3 बच्चे बेहोश हो गए। जिसके चलते परिवार के अन्य लोगों में खलबली मच गई। आसपास के लोगों की भीड़ लग गई। इससे पहला मामला तूल पकड़ता की फॉगिंग करने वाले कर्मचारी वहां से फरार हो गए है।

पीड़ित परिवार ने फॉगिंग करने वाले कर्मचारी और नगर निगम के खिलाफ हंगामा शुरू कर दिया। इस जानकारी पर सिटी मजिस्ट्रेट और प्रभारी नगर स्वास्थ्य अधिकारी जिला अस्पताल में पहुंचे। अस्पताल में डॉक्टर से दोनों अधिकारियों ने बातचीत की। बताया गया कि चार महिला की हालत गंभीर बनी हुई है। जिनको जनरल वार्ड से आईसीयू में शिफ्ट किया है। महिलाओं और बच्चों का इलाज अस्पताल में चल रहा है।

Share.

About Author

Leave A Reply