Friday, March 1

कैंट बोर्ड के रिहायशी क्षेत्रों को नगर निगम में शामिल करने की कवायद तेज, ये मोहल्ले होंगे शामिल

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 19 जनवरी (प्र)। कैंट बोर्ड के रिहायशी क्षेत्रों को नगर निगम में शामिल करने की कवायद तेज हो गई है। इस संबंध में बृहस्पतिवार को दिल्ली में रक्षा मंत्रालय संयुक्त सचिव की अध्यक्षता में कैंट बोर्ड की तरफ से प्रस्तुतीकरण दिया गया प्रजन्टेशन कैंट बोर्ड अध्यक्ष ब्रिगेडियर राजीव कुमार और सीईओ ज्योति कुमार की ओर से दिया गया।
प्रस्तुतीकरण में छावनी की संपत्ति, आय, खर्च के साथ भौगोलिक स्थिति का ब्यौरा भी प्रस्तुत किया गया। बताया गया कि छावनी के आठ वार्डों में सिविल क्षेत्र कहां कहां है। इस क्षेत्र में लगभग 1.8 लाख की आबादी है। इसके बाद रक्षा मंत्रालय की टीम मेरठ आकर स्थलीय निरीक्षण करेगी।

कैंट के सिविल क्षेत्र को नगर निगम में शामिल करने के लिए रक्षा मंत्रालय के संयुक्त सचिव की अध्यक्षता में कमेटी गठित की गई है। इसमें सदस्य उत्तर प्रदेश सरकार के प्रतिनिधि, सदस्य एडीजी आर्मी हेडक्वाटर, सदस्य एडीजी रक्षा संपदा, सदस्य निदेशक मध्य कमान, सदस्य कैंट बोर्ड अध्या, सदस्य सचिव कैंट बोर्ड सीईओ को शामिल किया गया। नगर निगम में छावनी के रिहायशी क्षेत्रों के शामिल होने से नगर निगम में पांच वार्ड बढ़कर 95 हो जाएंगे। आबूलेन, सदर, रजवन, लालकुर्ती जैसे मुख्य बाजार आवासीय क्षेत्र नगम निगम का हिस्सा होंगे। इसके साथ ही बंगला क्षेत्र को शामिल करने के संबंध में भी निर्णय लिया जाएगा।

12 दिन में तैयार की गई रिपोर्ट
प्रस्तुतीकरण के लिए 12 दिन में रिपोर्ट तैयार की गई। इसमें राजस्व, स्टोर, रिकार्ड, निर्माण, भूमि अनुभाग, लेखा आदि विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों ने संपूर्ण ब्यौरा प्रस्तुत किया। संसाधन, जलापूर्ति व्यवस्था कैंट क्षेत्र की सीमा, संपत्तियों का ब्यौरा, कर्मचारियों की संख्या, आवास, वेतन, सड़कें, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट आदि की जानकारी दी गई।

ये मोहल्ले होंगे शामिल
जुबलीगंज, हर्षपुरी, शिवाजी कॉलोनी, टंडेल मोहल्ला, अरविंदपुरी, रंजीतपुरी, धर्मपुरी, स्वराजपथ, दालमंडी, तहसील कंपाउंड, अलीमपुरा, गंज बाजार, चाणक्यपुरी, पटेलपुरी, रविंद्रपुरी, कबाड़ी बाजार, पटेलपुरी, जामुन मोहल्ला, मैदा मोहल्ला, हंडिया मोहल्ला, घोसी मोहल्ला, सदर बाजार, आबूलेन, आरए बाजार तोपखाना क्षेत्र, बीआई बाजार लालकुर्ती, बीसी बाजार रजबन क्षेत्र को शामिल करने की तैयारी है।

Share.

About Author

Leave A Reply