Monday, February 26

राजेंद्रनगर में छप रही थीं नकली किताबें, करोड़ों रुपए की पायरेटेड पुस्तकें बरामद

Pinterest LinkedIn Tumblr +

पटना 06 दिसंबर। नकली किताब छापकर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ पटना पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए भारती भवन प्रकाशन की पुस्तकों के अवैध कारोबार से जुड़ी एक फैक्ट्री में छापा मारकर करोड़ों रुपए की पायरेटेड पुस्तकें बरामद की हैं।

दरअसल, दिल्ली पुलिस के द्वारा पटना के डीएसपी लॉ एन्ड आर्डर को दी गई, एक गुप्त सूचना के आधार पर पटना के कदमकुआं थानाक्षेत्र इलाके में छापामारी के दौरान पुलिस को भारती भवन पब्लिकेशन के कई सब्जेक्ट की पायरेटेड किताबें मिली हैं, जिसे फर्जी तरीके से भारती भवन प्रकाशक के नाम पर छापकर बेचने की तैयारी चल रही थी। पुलिस को मिली गुप्त सूचना के आधार पर इस फैक्ट्री से पुलिस ने तीन पिकअप वैन पायरेटेड पुस्तकें बरामद की हैं।

मामले की जानकारी देते हुए डीएसपी लॉ एंड आर्डर अशोक सिंह ने बताया कि भारती भवन पब्लिकेशन को सूचना मिली थी कि उनके प्रकाशन समूह के नाम से प्रकाशित स्कूली पाठ्यक्रम की किताबों को फर्जी तरीके से पायरेटेड कर पटना के कदमकुआं इलाके में छापा जाता है, इसके बाद भारती भवन पब्लिकेशन की मूल किताब बताकर बेचा जाता है। इसी शिकायत के आधार पर दिल्ली और पटना पुलिस ने पटना के कदमकुआं थानाक्षेत्र इलाके के रोड नम्बर 10 के भरत हाई स्कूल नाम की किताब फैक्ट्री में छापामारी की गई तो इस अवैध किताब की फैक्टी में बुक बाइंडिंग की आढ़ में पूरा गोरख धंधा चल रहा था।

इस फैक्ट्री से कई किताबें छापने वाले मशीनों के साथ कई बुक बाइंडिंग करने वाले मशीनों को बरामद करने के साथ-साथ तीन पिकअप वैन पायरेटेड करोड़ों रुपए की नकली किताब बरामद की हैं। फिलहाल इस गोरखधंधे में कौन-कौन लोग संलिप्त हैं और किस नेटवर्क के आधार पर पटना में फर्जी तरीके से किताब छापकर बेचते आ रहे हैं, पुलिस अब इन सभी पहलुओं की जांच कर रही है। डीएसपी लॉ एंड आर्डर ने बताया कि कि इस छापेमारी के दौरान पंकज नाम के एक युवक को गिरफ्तार किया गया है। जिससे पूछताछ के दौरान प्रारंभिक जानकारी मिली है कि इस नकली गोरखधंधे का मास्टरमाइंड दीपक सर है, जो पटना के खेमनीचक का रहने वाला है, जिसकी तलाशी के लिए छापेमारी की जा रही है।

Share.

About Author

Leave A Reply