Thursday, May 30

9 बार सांसद रहे माकपा नेता वासुदेव आचार्य का निधन

Pinterest LinkedIn Tumblr +

हैदराबाद 14 नवंबर। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के दिग्गज नेता और लोकसभा के लिए नौ बार निर्वाचित हुए बासुदेब आचार्य का यहां खराब स्वास्थ्य की वजह से गत सोमवार को 81 वर्ष की उम्र में निधन हो गया।
माकपा की तेलंगाना राज्य समिति के सदस्य डी.जी. नरसिम्हा राव ने बताया कि श्वसन और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे आचार्य ने सोमवार दोपहर करीब एक बजे अंतिम सांस ली।
नरसिम्हा राव ने बताया कि आचार्य अपने परिवार के सदस्यों के साथ हैदराबाद में रह रहे थे और उनकी पत्नी की पहले ही मृत्यु हो चुकी थी। उन्होंने बताया कि आचार्य के पार्थिव शरीर को हवाई मार्ग के जरिए पश्चिम बंगाल ले जाया जाएगा, जहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

आचार्य के परिवार में दो बेटियां और एक बेटा है। वासुदेव आचार्य का जन्म 11 जुलाई, 1942 को पश्चिम पुरुलिया जिले के आद्रा में हुआ था। वे एक भारतीय बंगाली-तमिल राजनीतिज्ञ और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) राजनीतिक दल के नेता थे। उनके पूर्वज मूल रूप से वर्तमान तमिलनाडु के थे, जो 16वीं शताब्दी में बंगाल में बस गये थे। वह खुद को बंगाली मानते थे। उन्होंने एम.ए. और बी.टी. की उपाधि प्राप्त की।

आचार्य अपने कॉलेज लाइफ से ही वामपंथी आंदोलन से जुड़ गए थे और देखते ही देखते वह विभिन्न प्रकार के आदिवासी आंदोलनों और साक्षरता अभियानों में पश्चिमांचल क्षेत्र के नेताओं में से उन्होंने अपना प्रमुख स्थान भी बना लिया। वासुदेव 1980 में बांकुड़ा लोकसभा क्षेत्र से पहली बार सांसद चुने गए थे। इसके बाद वह लगातार 2014 तक वहां के सांसद रहे। वासुदेव रेलवे कर्मचारी के आंदोलन के भी प्रमुख चेहरा थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में वह तृणमूल उम्मीदवार और अभिनेत्री मुनमुन सेन से हार गए थे, वासुदेव लंबे समय तक माकपा केंद्रीय समिति और राज्य समिति के सदस्य रहे।
1980 के चुनाव में बांकुड़ा लोकसभा सीट से माकपा राज्य नेतृत्व बिमान बोस को उम्मीदवार बनाना चाहते थे, लेकिन बिमान ने तत्कालीन राज्य सचिव प्रमोद दासगुप्ता से कहा कि वह संगठन में रहना चाहते हैं। उस समय बिमान को बांकुड़ा के लिए उम्मीदवार ढूंढने का काम सौंपा गया था। कई माकपा नेताओं का कहना है कि वासुदेव आचार्य बिमान बसु के पसंद थे।
माकपा की तेलंगाना राज्य समिति ने आचार्य के निधन पर शोक प्रकट किया।

माकपा ने एक विज्ञप्ति में कहा कि नरसिम्हा राव और ‘सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन’ (सीटू) नेता एम. साईबाबू ने दिवंगत नेता श्रद्धांजलि दी।
माकपा के राज्य सचिव और पोलित ब्यूरो सदस्य मोहम्मद सलीम ने कहा कि बासुदेव की एक बेटी विदेश में रहती है। वह मंगलवार को सिकंदराबाद पहुंचेंगी और इसके बाद ही दिवंगत नेता का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

Share.

About Author

Leave A Reply