Friday, April 19

मुश्किल में फंसे एसएसडी ब्वॉयज इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 27 दिसंबर (प्र)। लालकुर्ती स्थित एसएसडी ब्वॉयज इंटर कालेज के प्रधानाचार्य विशन पाल के खिलाफ हाईकोर्ट ने संयुक्त सचिव प्रथम को जांच के आदेश दिए हैं। हाईकोर्ट के आदेश से एसएसडी ब्वॉयज इंटर कालेज, लालकुर्ती के स्टाफ में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं, दूसरी ओर महकमे के जिन अफसरों की मदद के चलते विशनपाल कालेज के प्रधानाचार्य की कुर्सी तक पहुंचे, उन पर भी शिकंजा कसने की आशंका जतायी जा रही है।

यह पूरा मामला इन दिनों शिक्षा विभाग में जबरदस्त चर्चा का विषय बना हुआ है। वहीं, दूसरी ओर शिक्षा विभाग के अफसर इस मामले पर कुछ भी कहने से कन्नी काट रहे हैं। उनका कहना है कि मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है जो मामला पहले से कोर्ट में विचाराधीन हो, उस पर बोलना मुनासिब नहीं। जो भी हाईकोर्ट का आदेश होगा उसके अनुसार ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

शहर के लालकुर्ती स्थित एसएसडी ब्वॉयज इंटर कालेज में वर्तमान में प्रधानाचार्य की कुर्सी पर काबिज विशन पाल सिंह की शुरुआत जनता इंटर कालेज खेड़ा से हुई थी। करीब दो दशक पूर्व जब एसएसडी ब्वॉयज इंटर कालेज लालकुर्ती के तत्कालीन प्रधानाचार्य नित्यानंद शर्मा किन्हीं कारणों के चलते हट गए या हटा दिए गए थे, उसके बाद विशन पाल सिंह बेहद चौंकाने वाले व नाटकीय बताए जा रहे तरीके से एसएसडी ब्वॉयज इंटर कालेज के प्रधानाचार्य बन गए। इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में रिट दायर करने वाले आरटीआई एक्टिविस्ट पुनीत शर्मा का कहना है कि तब के अफसर इस मामले को लेकर बजाय स्थिति साफ करने व सवालों का जवाब देने के सवालों से भागते नजर आए।

विशन पाल के एसएसडी ब्वॉयज इंटर कालेज का प्रधानाचार्य बनने को लेकर शिक्षा विभाग के स्थानीय से लेकर लखनऊ स्थिति अफसरों तक दर्जनों शिकायतें पहुंचीं। पूर्व एमएलसी ओम प्रकाश शर्मा जो खुद एक शिक्षक नेता भी थे, उन्होंने भी इस मामले को शासन में उठाया, लेकिन बजाय जांच कर कार्रवाई के लीपापोती कर दी गयी, लेकिन इस मामले से पर्दा उठाने पर तुले तमाम लोगों को हार मानना स्वीकार नहीं था। इनमें पुनीत शर्मा भी शामिल थे। जब सिस्टम में सुनवाई नहीं हुई तो विशन पाल के प्रधानाचार्य बनने और इस सीट पर अब तक डटे रहने को लेकर हाईकोर्ट में रिट दायर की गयीं। एक-दो नहीं कई रिट इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में दायर की गयीं। इनमें एक रिट पुनीत शर्मा ने भी दायर की।

पुनीत ने जानकारी दी कि जब काफी संख्या में रिट दायर कर दी गयीं तो उसके बाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के आदेश पर सभी रिटों की एक साथ सुनवाई के आदेश चीफ जस्टिस ने देते हुए मामले की सुनवाई के लिए सभी रिट न्यायमूर्ति विकास बुधवार की कोर्ट को भेज दी गयीं।

रिट दायर करने वालों में शामिल आरटीआई एक्टिविस्ट ने बताया कि न्यायमूर्ति विकास को बीते छह दिसंबर को जारी आपने आदेश में संयुक्त सचिव प्रथम को एसएसडी ब्वॉय इंटर कालेज लालकुर्ती के प्रधानाचार्य के खिलाफ जो भी आरोप लगाए गए हैं उनकी जांच करने के अलावा उनकी शैक्षिक योग्यता पर भी रिपोर्ट तलब कर ली है। साथ ही तमाम जांचें दो माह के भीतर कर हाईकोर्ट को रिपोर्ट भेजने के आदेश दिए हैं।
रिट दायर करने वाले पुनीत शर्मा ने जानकारी दी कि हाईकोर्ट के आदेश से संयुक्त सचिव को अवगत करा दिया गया है। अगली सुनवाई 26 फरवरी को हाईकोर्ट में की जानी है।

Share.

About Author

Leave A Reply