Monday, May 20

16000 करोड़ रुपये के पेमेंट गेटवे की धोखाधड़ी मामले में दो गिरफ्तार

Pinterest LinkedIn Tumblr +

ठाणे 14 अक्टूबर । महाराष्ट्र के ठाणे शहर में एक गिरोह ने पेमेंट गेटवे सेवा मुहैया कराने वाली एक कंपनी के खाते को हैक कर विभिन्न बैंकों के अलग-अलग खातों से 16,180 करोड़ रुपये निकाल लिए गए थे। पुलिस ने इस मामले में शामिल दो लोगों को गिरफ्तार किया है। एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

दरअसल, इसी साल अप्रैल में ठाणे पुलिस में एक मनी ट्रांसफर कंपनी की तरफ से कंपनी के पेमेंट गेटवे को हैक करके 25 करोड़ की धोखाधड़ी किए जाने संबंधी शिकायत दर्ज कराई थी। इस मामले की जांच के दौरान मामला शिकायत से कई सौ गुणा की धोखाधड़ी का निकला। पुलिस सूत्रों की मानें तो साइबर सेल की टीम को कंपनी की बैंक स्टेटमेंट की जांच के बाद सामने आए ढाई सौ से ज्यादा बैंक खातों की डिटेल चेक करने पर 16 हजार 180 करोड़ 42 लाख 92 हजार 4 सौ 79 रुपए का लेन-देन संदिग्ध मिला। पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने इस इस दौरान ब्लैक मनी को सफेद करने के लिए फर्जी दस्तावेजों का भी इस्तेमाल किया।

पुलिस के अधिकारी ने बताया कि ठाणे पुलिस ने गुरुवार को भायंदर के रहने वाले 26 साल के अनूप दुबे और एक फर्म में पार्टनर 42 वर्षीय मुंबई निवासी संजय नामदेव गायकवाड़ को गिरफ्तार किया। उन्होंने कहा कि इस धोखाधड़ी को बहुत पहले से अंजाम दी जा रही थी। हालांकि, इसका खुलासा उस समय हुआ जब अप्रैल 2023 में कंपनी के पेमेंट गेटवे सिस्टम को हैक कर अचानक 25 करोड़ रुपये उड़ा लिए गए और इसकी शिकायत श्रीनगर पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई गई।

हालांकि शुरुआत में रियाल इंटरप्राइजेज के नाम पर 1 करोड़ 39 लाख 19 हजार 264 रुपए एचडीएफसी बैंक में जमा कराए जाने की बात सामने आई थी। इसके बाद जब रियाल एंटरप्राइजेज की जांच की गई तो वाशी, बेलापुर और नवीं मुंबई में कंपनी के ऑफिस मिले। उन ऑफिसेज की जांच-पड़ताल में पुलिस को नौपाड़ा थाने के अधिकारक्षेत्र में बाल गणेश टावर स्टेशन रोड पर कुछ लोगों के नाम पर पांच फर्जी फर्म बनाए जाने की जानकारी मिली। इसके बाद इस कंपनी के 260 बैंक खातों की बात सामने आई।

इनमें संदिग्ध पाई गई 16 हजार करोड़ से ज्यादा रुपए में से कुछ पैसा विदेश भी भेजे जाने का खुलासा हुआ तो 6 अक्टूबर को नौपाड़ा पुलिस ने संजय सिंह, अमोल अंडाले, समीर दिघे, जितेंद्र पांडेय और एक अज्ञात के खिलाफ जालसाजी का आपराधिक मामला दर्ज किया। इस मामले में गुरुवार को पुलिस ने भायंदर के 26 वर्षीय अनूप दुबे और मुंबई के 42 वर्षीय संजय नामदेव गायकवाड़ (पांच में से एक फर्म में पार्टनर) को गिरफ्तार किया है। पुलिस सूत्रों की मानें तो फर्जीवाड़े में नामजदू जितेंद्र पांडेय करीब 10 साल बैंकों में पीआर और सेल्स मैनेजर के पद पर काम कर चुका है।

Share.

About Author

Leave A Reply