Sunday, June 23

अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद में बोले केंद्रीय राज्यमंत्री संजीव बालियान-पश्चिम उत्तर प्रदेश बने अलग प्रदेश और मेरठ उसकी राजधानी

Pinterest LinkedIn Tumblr +

meeमेरठ 02 अक्टूबर (प्र)। उत्तर प्रदेश के मेरठ में रविवार को सुभारती यूनिवर्सिटी मेरठ में एक अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह, सर छोटू राम और राजा महेंद्र सिंह को भारत रत्‍न दिए जाने तथा देश के नए संसद भवन में महाराजा सूरजमल का स्मारक लगाए जाने आदि की मांग भी की गई।

संजीव बालियान ने कहा कि पश्चिम उत्तर प्रदेश सबसे समृद्ध प्रदेश होगा। मेरठ सबसे बड़ा है, इसलिए राजधानी होना चाहिए। यहां की आबादी 8 करोड़ है। हाईकोर्ट यहां से 750 किलोमीटर दूर है ऐसे में यह मांग पूरी तरह जायज है। जाट समाज को आरक्षण देने के मामले में वह नेताओं के साथ हैं। उन्होंने कहा कि अकेले समाज से कोई गांव का प्रधान नहीं बन सकता। टांग खींचने की प्रवर्ति के कारण राजनीतिक रूप से जाट कमजोर पड़ गया है। इसे दूर करना होगा।

जाट आंदोलन के नेता यशपाल मलिक ने कहा कुछ जिलों के जाट अगर बदतमीजी बंद कर दें तो स्थिति बदल जायेगी। इसमें हरियाणा के जिले भी है। आरक्षण की मांग पूरा करने के लिये राजनेताओं का सहारा लेना होगा। इसके लिए जिस तरह चौधरी चरण सिंह को जाट समाज के लोग एक मुश्त वोट करते थे। ऐसे ही वर्तमान नेताओ का समर्थन करना पड़ेगा। तभी आरक्षण की मांग पूरी होगी।

अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद के संयोजक रामावतार पलसानिया ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद में विदेशों से आए जाट समाज के लोग पहुंचे हैं। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह, सर छोटू राम और राजा महेंद्र सिंह को भारत रत्न दिया जाए, केंद्र में ओबीसी वर्ग में आरक्षण, बेगम पुल रैपिड स्टेशन का नाम चौधरी चरण सिंह के नाम पर रखने का प्रस्ताव रखा गया।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हरेंद्र मलिक ने जाट एकता की आवश्यकता पर जोर दिया। जाट आरक्षण संघर्ष समिति के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कहा कि आरक्षण की मांग पूरा करने के लिए राजनेताओं का सहारा लेना होगा। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष मोहित बेनीवाल ने कहा कि जाट समाज से देश को विश्‍वगुरु के रूप में स्थापित करने में योगदान करने की अपील की। उन्होंने कहा कि खेल जगत से लेकर कला, सामाजिक, सांस्कृतिक, इसरो के वैज्ञानिक से लेकर सेना में जाट समुदाय बड़ी संख्या में हैं। जाट युवा सीमा पर देश की सुरक्षा में खड़े हैं तो देश के अंदर बिजनेस से लेकर किसानी तक जाट युवा अपना सहयोग दे रहे हैं।

सुभारती यूनिवर्सिटी मेरठ के मांगल्य कन्वेंशन सेंटर में अंतर्राष्ट्रीय जाट संसद में हजारों की संख्या में अमेरिका इंग्लैंड , आस्ट्रेलिया, जर्मनी, फ़्रांस, अफ़्रीका, राजस्थान, दिल्ली, पंजाब, हिमाचल, जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड सहित गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, मध्यप्रदेश हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब समेत कई राज्यों से जाट समाज के बड़े नेता शामिल होने पहुंचे। इनमें अभय सिंह चौटाला, संजीव बलियान, पंकज मलिक, हरेंद्र मलिक, सोमेंद्र ढाका आदि बड़े नेताओं के नाम शामिल हैं। कार्यक्रम में समाज की ओर से शिक्षा, कला, खेल, चिकित्सा आदि क्षेत्रों में समाज का नाम रोशन करने वाले लोगों को सम्मानित किया जाएगा।

Share.

About Author

Leave A Reply