Thursday, June 13

सोशल मीडिया एसोसिएशन एसएमए की पत्रकार गोष्ठी, हर तरह के मीडिया के एक जुट होने की उठी मांग, हम अपनी विश्वसनीयता और विश्वास को और मजबूत करना होगा

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 30 मई (प्र)। समय अनुसार परिवर्तन हर क्षेत्र में होता रहा है तो मीडिया उससे कैसे बच सकता है। पूर्व में नारद मुनि जी देवताओं के बीच हमारा प्रतिनिधित्व करते थे उसके बाद ट्रेडिशनल मीडिया जिसमें कबूतरों और गांव में होने वाले सांग व नौटंकी के माध्यम से इंसानों में खबरों का आदान प्रदान होता था। 1826 को पंड़ित जुगल किशोर शुक्ला जी द्वारा कलकता से उदन्त मार्तण्ड का प्रकाशन किया गया। तो गणेश शंकर विद्यार्थी जी द्वारा हिन्दी पत्रकारिता को खूब बढ़ावा दिया गया। लेकिन परेशानियां तब भी थी और आज भी है। और सबसे ज्यादा उत्पीड़न का शिकार अपने दम पर साप्ताहिक समाचार पत्र निकाल रहे संपादक और उनके सहयोगी है। क्योंकि गलती तो कोई बड़े अखबार का मालिया संवाददाता करता है लेकिन उसे भुगतना लघु और भाषाई समाचार पत्र के संपादक व उनके सहयोगियों को पड़ता है। उक्त शब्द सोशल मीडिया एसोसिएशन एसएमए के संस्थापक दैनिक केसर खुशबू टाइम्स के संपादक रवि कुमार बिश्नोई ने न्यूज स्पेस के कार्यालय तिलक पार्क पर इसके उत्साही युवा संपादक गौरव गोयल द्वारा सोशल मीडिया एसोसिएशन एसएमए के बैनर पर आयोजित हिन्दी पत्रकारिता गोष्ठी में कहे गये।

श्री बिश्नोई ने कहा कि मीडिया की विश्वसनीयता कम क्यों हो रही है विश्वास क्यों दरक रहा है इस पर विचार कर हमें आम आदमी में अपने प्रति विश्वास पैदा करने की बड़ी आवश्यकता है तभी मीडिया से संबंध लोगों की संख्या बेहिसाब बढ़ जाने के बाद भी जो हम कमजोर नजर आते है उसे दूर कर आगे बढ़ना होगा। श्री बिश्नोई का कहना था कि अपनी अपनी समस्याओं के लिए भले ही हम अलग अलग संघर्ष करे लेकिन सामूहिक परेशानी के समाधान के लिए सब तरह के मीडिया से जुड़े लोगों को एक परिवार की भांति एक जुट होकर संघर्ष करना चाहिए। हम लोगों को चाहिए कि हम किसी के ब्लैकमेलर कहने की चिन्ता न करे सबकी खबर छापे और समस्याऐं उठाये। एक दिन हम पुराने से भी ज्यादा ताकत के साथ खड़े होंगे यह बात मैं विश्वास से कह सकता हूं।

समारोह की अध्यक्षता कर रहे आईएमए यूपी के पूर्व अध्यक्ष वरिष्ठ चिकित्सक डा0 एमके बंसल ने कहा कि समाज उत्थान और देश के विकास और सबकी कठिनाईयों का हल ढूंढने में मीडिया का बहुत बड़ा योगदान है जिसे भुलाया नहीं जा सकता।
एसएमए के राष्ट्रीय महामंत्री मजीठिया बोर्ड यूपी के पूर्व सदस्य अंकित बिश्नोई का कहना था कि देश के पांच बड़े अखबारों में हिन्दी अखबारों का बोलबाला है। हमें एक जुट होकर अपनी बात रखनी होगी। हर कोई उसे सुनेगा और हल करेगा।

इस अवसर पर मातृ शक्ति के रूप में आकाश गौरव की संपादिका नेहा गोयल विनेश तेवतिया राजीव लोचन गोयल संपादक राजहंस दर्पण संदीप गुप्ता एल्फा अविनाश सक्सेना अतुल माहेश्वरी प्रशांत कौशिक अश्वनी कौशिक श्री ब्रजभूषण गुप्ता सचिन भारती आदि ने भी पत्रकारिता से संबंध अपने सारगर्भित संबोधन में विचार रखे और गौरव गोयल को धन्यवाद दिया। इस अवसर पर इलना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य सुशील गांधी सौरव गोयल शोभित गोयल मदन गोपाल गोयल आदि भी विशेष रूप से मौजूद रहे। न्यूज स्पेस व आकाश गौरव समाचार परिवार द्वारा उपस्थितों का माला पहनाकर सभी का स्वागत भी किया गया।

Share.

About Author

Leave A Reply