Sunday, June 23

अब अपराधिक घटनाएं कर भागने वालों पर कसेगा शिकंजा, मेरठ की सीमा में आने जाने वाली हर गाड़ी का नंबर अब कैमरे होगा दर्ज

Pinterest LinkedIn Tumblr +

मेरठ 03 मई (प्र)। वाहन चोरों और अपराधिक घटनाएं कर भागने वालों पर नकेल कसना पुलिस के लिए आसान होने जा रहा है। पुलिस जनपद के बार्डर पर आटोमेटिक नंबर प्लेट रिकागनाइजेशन (एएनपीआर) कैमरे लगाएगी। उसके लिए बाहर के 15 प्वाइंट चिन्हित कर लिए गए हैं। पुलिस को वाहन चोर पकड़ने में तो आसानी होगी। सड़क पर सरपट दौड़ रही ओवरस्पीड वाहनों की जानकारी जुटाना भी पुलिस के लिए आसान होगा। जनपद में हर माह 30 से ज्यादा वाहन चोरी हो रहे हैं।

एसएसपी रोहित सजवाण ने बताया कि जनपद के बार्डर पर 15 चिन्हित प्वाइंट पर पुलिस एएनपीआर कैमरे लगाएगी। उससे जनपद में प्रवेश करने वाले प्रत्येक वाहन का डाटा पुलिस के पास मौजूद रहेगा। कैमरे में 30 दिनों का डाटा स्टोर हो सकेगा। कोई भी वाहन जनपद से बाहर जा रहा है, या बाहर से अंदर आ रहा है। उसके नंबर प्लेट की फोटो पुलिस के रिकार्ड में रहेगी।

ये है एएनपीआर कैमरा : एक बार जब कैमरा नंबर प्लेट की छवि कैप्चर कर लेता है, तो एआइ फर्मवेयर इसे मशीन पठनीय अक्षरों या डिजिटल जानकारी में बदल देता है, उसका रिकार्ड एक महीने तक कैमरे में स्टोर रहता है।
ओवर स्पीड पर लगेगी रोक एएनपीआर कैमरे से यातायात पुलिस को भी आसानी होगी। सड़क पर सरपट दौड़ रहे ओवरस्पीड वाहनों का आसानी से चालान किया जा सकेगा। बिना हेलमेट और सीट बेल्ट के साथ ओवरस्पीड वाहनों के नंबर प्लेट को कैमरे द्वारा स्कैन कर लिया जाएगा।

इन जगहों पर लगाए जाएंगे एएनपीआर कैमरे
थाना         बार्डर
दौराला- दादरी (दिल्ली- दून हाईवे पर टोल प्लाजा से 16 किमी)
परतापुर- मोहिउद्दीपुर (दिल्ली हाईवे परतापुर इंटरचेंज से 9 किमी)
जानी डाहेडा – (बागपत रोड पर बागपत फ्लाइओवर से 20 किमी) रघुनाथपुर निवाड़ी की तरफ मजार
सरधना- सलावा बैरियर, बधारसी, नानू बैरियर द्य सरधना रोड पर सरधना पलाइओवर से 18 किमी)
सरूरपुर हर्रा मोड- भूनी चौपला ( सरधना बिनौली रोड पर सरचना फ्लाइओवर से 30 किमी)

किठौर- शाहजहांपुर चौकी ( गढ़मुक्तेश्वर रोड पर मेडिकल कालेज से 15 किमी)
हस्तिनापुर – गणेशपुर तिराहा (बिजनौर हाईवे पर मवाना चौपला से 40 किमी)
मवाना – चौकी मवाना खुर्द (बिजनौर हाईवे पर मवाना चौपला से 21 किमी)
बहसूमा – रामराज चौकी (बिजनौर हाईवे पर मवाना चौपला से 38 किमी)
खरखौदा – धीरखेड़ा चौकी (हापुड़ रोड पर बिजली बंबा चौकी से 20 किमी)
नोट: किलोमीटर लगभग में है।

चोरी के वाहन पकड़ने के लिए करनी पड़ती है मशक्कत
पुलिस को चोरी के वाहनों को पकड़ने में बड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। वाहन चोरी करने के बाद बदमाश दूसरे शहरों में प्रवेश कर उसे खपाने में कामयाब हो जाते हैं। उनके उपकरण खोलकर उसे आसानी से बेच देते हैं। एएनपीआर कैमरे लगने के बाद जनपद के वाहन चोरी करने के बाद बाहर नहीं ले जा सकेंगे।

Share.

About Author

Leave A Reply